एम्स के ट्रामा सेंटर बना कोविड अस्पताल:आरएके के भूतल पर चलनी शुरु हुई एम्स ट्रामा सेंटर सुविधाएं

नई दिल्ली11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना के बढ़ते मामलों के मद्देनजर शुक्रवार को अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के ट्रामा सेंटर को एक सर्मिपत कोविड सुविधा केंद्र में तब्दील करने की प्रक्रिया शुरू कर दी। पुरानी राजकुमारी अमृत कौर (आरएके) इमारत के भूतल पर ट्रामा आपात विभाग शुक्रवार से काम करने लगा और शनिवार से जेपीएनएटीसी में ओपीडी आरएके इमारत के पांचवें तल पर कार्य करेगा।

वहीं रेजिडेंट डॉक्टरों ने ट्रामा सेंटर से मरीज हटाने का विरोध किया है और कहा है कि पिछली बार ट्रामा सेंटर को कोरोना अस्पताल बनाने पर हादसों में घायल होकर आए मरीजों का इलाज प्रभावित हुआ था और कई मरीजों की मौत हो गई थी। एम्स प्रशासन ने शुक्रवार दोपहर से हादसा पीडि़तों के इलाज की व्यवस्था ट्रामा सेंटर से हटाकर मुख्य अस्पताल परिसर में शुरू कर दी हैं।

अस्पताल प्रशासन ने ट्रामा के मरीजों को मुख्य परिसर में पुरानी ओपीडी बिल्डिंग में स्थानांतरित कर दिया है। अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक के आदेशानुसार शुक्रवार दोपहर दो बजे से एम्स के मुख्य परिसर में पुरानी ओपीडी बिल्डिंग के भूतल पर ट्रामा के मरीजों के लिए इमरजेंसी सेवा शुरू की गई है। इन मरीजों की ओपीडी इसी इमारत में पांचवें तल पर होगी। ऐसे में अस्पताल के डॉक्टरों का कहना है कि सडक़ और अन्य हादसों में घायल हुए गम्भीर मरीज जो चल फिर नहीं सकते उनके लिए ट्रामा की ओपीडी में पांचवें तल तक जाना बेहद मुश्किल होगा।

खबरें और भी हैं...