दीपावली के बाद राजधानी में स्मॉग बढ़ा:कोविड मरीजों के लिए सबसे बड़ा खतरा, हार्ट पेशेंट को भी परेशानी

नई दिल्लीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आनंद विहार में स्मॉग टावर के पास ही एक्यूआई 463 दर्ज हुआ है। - Dainik Bhaskar
आनंद विहार में स्मॉग टावर के पास ही एक्यूआई 463 दर्ज हुआ है।

सावधान? अगर आप फेफड़े, दिल की बीमारियों और कोविड के मरीज हैं या रहें है तो संभल कर रहे। आप सैर सपाटे के बजाय घर बंद कर रहे और घर में रहकर प्रदूषण से बचाव का सभी उपाय करें। प्रतिबंधों के बावजूद दिल्ली एनसीआर के लोगों द्वारा दीपावली की पूरी रात जमकर पटाखे फोड़ने का असर पर्यावरण विशेषज्ञ सचिन पवार के अनुसार रात एक बजे से ही दिखना शुरू हो गया। पटाखों से पूरी दिल्ली में पीएम 2.5 का उच्चतम मानक 1000 माइक्रोग्राम एम3के निशान को पार कर गया।

बीमार और स्वस्थ लोगों के लिए बेहद खतरनाक है। रात को पूरी दिल्ली के वायुमंडल में हवा का स्तर खराब हो गई। एक्यूआई 600 के पार पहुंच गई उसमें स्वास्थ्य के लिए सबसे घातक पीएम2.5 की मात्रा बढ़ती चली गई जो सुबह से लेकर दिन के 11 बजे तक 1000-1400 तक बनी रही। पवार के अनुसार पूरी दिल्ली के वायुमंडल में पीएम पीएम2.5 की मात्रा दिन भर 700 से अधिक बनी हुई है जो मानक से बहुत अधिक है।

पटाखे से होने वाली प्रदूषण पीएम2.5 का असर शुक्रवार सुबह ही दिखने लगी। सुबह सैर सपाटे पर गए लोगों के अंकों में जलन से लेकर दम घुटने की परेशानी हुई। स्मॉग के कारण लोगों को सांस लेने में परेशानी हुई। पर्यावरण विशेषज्ञ सचिन पवार ने बताया कि प्रदूषण के सरकारी आंकड़ों के अनुसार नहीं रहे और स्वास्थ्य के प्रति सतर्कता बरतें।

उन्होंने बताया कि सरकार एजेंसी एक्यूआई 10 कपाउंड को जिसमें 2.5 पीएम 10 और सल्फर सहित सात अन्य सोर्स को माप कर तैयार करती है। पवार ने बताया कि रात से ही दिल्ली एनसीआर के वायुमंडल में पीएम2.5 और हवा को प्रदूषित करने वाले सल्फर गैस की भी मात्रा समान्य से कई गुणा अधिक है।

आनंद विहार में स्मॉग टावर के पास ही एक्यूआई दर्ज हुआ 463
दिवाली के सुबह ग्रेटर नोएडा में भी नॉलेज पार्क 1 में एक्यूआई 999 तो आनंद विहार में सुबह 463 एक्यृूआई दर्ज हुआ जबकि वहां पास में ही स्मॉग टावर भी लगा हुआ है।

स्मॉग व फॉग के कारण विजिबिलिटी 50 मीटर
स्मॉग व फॉग के कारण दिल्ली में सुबह विजिबिलिटी के कारण भी परेशानी का सामना करना पड़ा। विजिबिलिटी केवल 50 मीटर रह गई, ऐसे में वाहन चालकों व पैदल यात्रियों को मुश्किल का सामना करना पड़ा। दिल्ली-एनसीआर के कुछ इलाकों में विजिबिलिटी 50 मीटर तक है। स्थिति यह है कि इंडिया गेट और राष्ट्रपति भवन की इमारतें प्रदूषण के धुएं में नजर नहीं आ रही हैं।

हवा या बारिश से राहत मिल सकती है : एक्सपर्ट
पर्यावरण विशेषज्ञ सचिन पवार ने बताया कि सोमवार, मंगलवार को दिल्ली में तेज हवा, हल्की बारिश की चलने की उम्मीद है। इससे लोगों को प्रदूषण से मामूली राहत मिल सकती है। पवार ने बताया कि सोमवार और मंगलवार को तेज हवा चलने के कारण प्रदूषण कारी तत्वाें को अपने साथ बहा कर दिल्ली से बाहर ले जाएगी।

बड़ी एंटी-स्मॉग गन से पानी के छिड़काव की शुरूआत
दिल्ली पटाखें फोड़ने से रोकने में पुलिस और प्रशासन की टीम बुरी तरह से फेल हो गई। लोगों के द्वारा जमकर पटाखें फोड़ने के कारण दिल्ली में प्रदूषण चरम पर रहा। यही नहीं शुक्रवार को भी लोग प्रतिबंध के बाद जमकर पटाखें छोड़ रहें है जिसके कारण दिल्ली में प्रदूषण का स्तर और भी खराब होगी।
इधर, दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल रॉय ने शुक्रवार को कहा कि शनिवार सुबह से प्रदूषण को रोकने के लिए दिल्ली की सड़कों पर बड़ी एंटी-स्मॉग गन से पानी के छिड़काव की शुरूआत की जाएगी। इसके साथ ही प्रदूषण पर काबू के लिए अधिक प्रदूषण वाले चौराहे पर20 एंटी स्मॉग गन लगाया जाएगा।

खबरें और भी हैं...