राजधानी के कोटला मुबारक पुर इलाके का मामला:सोशल मीडिया पर लगायी मदद की गुहार, भाई बहन का पुलिस ने दिया साथ; बुजुर्ग पिता की कोरोना से हुई थी मौत

नई दिल्ली6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • शव का करवाया गया अंतिम संस्कार

पुलिस के प्रति लोगों के मन में यह धारना बनी रहती है कि वह भ्रष्ट है, लोगाें की सुनती नहीं वगैरह वैगरह। लेकिन कोरोना के इस संकट में जिस तरह से पुलिस ने अपनी जिंदगी दांव पर लगाकर लोगों की मदद की, उससे अब लोगों के विचार बदलते दिख रहे हैं।

दिन रात पुलिस लोगों की मदद के लिए तत्पर है। साउथ दिल्ली के कोटला मुबारक पुर इलाके में सोशल मीडिया के जरिए भाई बहन ने सहायता की गुहार लगायी तो पुलिस फौरन उनके घर पहुंच गई। इनके पिता की कोरोना से मौत हो गई थी।

डीसीपी साउथ डिस्ट्रिक अतुल कुमार ठाकुर ने बताया बीती रात साढ़े ग्यारह बजे पुलिस को सोशल मीडिया पर एक मैसेज मिला। जिसमें भाई बहन ने मदद की गुहार लगायी थी। कोटला मुबारक पुर थानाध्यक्ष विनय त्यागी ने फौरन परिवार से संपर्क किया। बातचीत में सौभाग्य रंजन (28) ने बताया उनके पिता गुरुचरण (62) की शाम सात बजे घर में मौत हो गई। उन्हें सांस लेने और खांसी की परेशानी थी।

सौभाग्य और उसकी छोटी बहन को भी यही लक्षण थे। कोरोना महामारी की वजह से कोई उनकी मदद के लिए आगे नहीं आ रहा। घर में खाना तक नहीं था। पुलिस टीम ने भाई बहन के लिए खाने की व्यवस्था की। उनकी काउंसलिंग की, जिसके बाद लोधी रोड स्थित श्मशान घाट में आज उनके पिता का अंतिम संस्कार कराया गया। यह परिवार मूलरुप से उड़ीसा का रहने वाला है, जो यहां किराए के मकान में रह रहा है। सौभाग्य प्राइवेट जॉब करता है।

खबरें और भी हैं...