पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

भास्कर 360:वैक्सीन रेस में चीन सबसे आगे, उसकी चार वैक्सीन ट्रायल के तीसरे चरण में

नई दिल्ली2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने कहा है-सरकार जुलाई 2021 तक 25 करोड़ लोगों तक टीका पहुंचाएगी।

हाल ही में केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने कहा है कि सरकार का लक्ष्य जुलाई 2021 तक 25 करोड़ लोगों तक कोराेना वैक्सीन पहुंचाने का है। देश में कोराेना वैक्सीन को लेकर बहुत तेजी से काम चल रहा है। इसके बावजूद भारत सहित दुनिया के कई देश चीन से इस मामले में पीछे दिखाई दे रहे हैं। 11 अगस्त 2020 को रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने जैसे ही यह दावा किया कि उनके वैज्ञानिकों ने कोरोना के खिलाफ कारगर वैक्सीन तैयार कर ली है, वैक्सीन को लेकर दुनिया भर में बहस तेज हो गई।

रूस ने इसे स्पुतनिक-वी नाम दिया है। रूस के दावे पर अभी तक संशय बना हुआ है। विश्व स्वास्थ्य संगठन सहित दुनिया भर के वैज्ञानिकों ने इस वैक्सीन के निर्माण में तय मानकों का पालन नहीं किए जाने की बात कही है। साथ ही इसके गंभीर परिणाम मिलने की चेतावनी भी दी है। रूस के अलावा इस समय चीन ही वह देश है, जो वैक्सीन रेस में सबसे आगे दिख रहा है। उसकी कोरोना वैक्सीन का कई देशों में इमरजेंसी उपयोग हो रहा है। इतना ही नहीं, उसकी चार वैक्सीन ट्रायल के तीसरे चरण में है।

डब्ल्यूएचओ की सितंबर माह में जारी रिपोर्ट के अनुसार दुनिया भर में 176 देशों में कोरोना वैक्सीन बनाने की कवायद चल रही है। वर्तमान में कुल 11 वैक्सीन ऐसी हैं जिनका ट्रायल तीसरे चरण में पहुंच चुका है। इसे सबसे एडवांस स्टेज माना जाता है। इसमें सबसे लंबा वक्त भी लगता है। सबसे ज्यादा चार वैक्सीन चीन की हैं। हालांकि चीनी वैक्सीन के अलावा अमेरिका की मॉर्डना, ऑक्सफोर्ड की एस्ट्राजेनेका और जर्मनी की बायाेएनटेक के नतीजे भी काफी उत्साहजनक रहे हैं।

हाल ही में रूस की स्पुतनिक-वी को लेकर मेडिकल जर्नल द लैंसेट ने एक रिपोर्ट प्रकाशित की है, जिसमें कहा गया है कि इस ट्रायल में हिस्सा लेने वाले सभी लोगों में कोरोना से लड़ने वाली एंटीबॉडी विकसित हुई है और किसी में भी साइड इफेक्ट देखने को नहीं मिले हैं। इस रिपोर्ट ने काफी हद तक रूस के दावे पर मुहर लगाई है। जानिए विश्व में कोरोना वैक्सीन को लेकर क्या चल रहा है?

पांच बिंदुओं के आधार पर जानिए कोरोना वैक्सीन के बारे में सबकुछ

1. वर्तमान में कोरोना संक्रमण की स्थिति क्या है?

24 घंटे में संक्रमण की रिकॉर्ड बढ़ोतरी

डब्ल्यूएचओ ने 09 अक्टूबर को दुनिया भर में संक्रमण के रिकार्ड 3,38,779 मामले दर्ज किए हैं। इनमें अकेले 96,996 नए मामले यूरोप के हैं। इसके पहले सर्वाधिक 3,30, 340 नए मामले 02 अक्टूबर को दर्ज किए गए थे। इस समय पूरे यूरोप में भारत, ब्राजील और अमेरिका से भी ज्यादा मामले दर्ज किए जा रहे हैं। दुनिया में अब तक कोरोना के कुल 3.70 करोड़ से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं। साढ़े दस लाख से ज्यादा मौतें हो चुकी हैं। रायटर के एक एनालिसिस के अनुसार 54 देशों में संक्रमण के मामले फिर बढ़ रहे हैं।

2. वैक्सीन को लेकर दुनिया भर में क्या स्थिति है?

54 वैक्सीन का फेज 1 से 3 में चल रहा ट्रायल

किसी भी देश की वैक्सीन को अभी तक पूरी तरह से अनुमति प्रदान नहीं की गई है। 54 वैक्सीन ऐसी हैं जिनका पहले से लेकर तीसरे फेज तक ट्रायल चल रहा है। इनमें से 44 वैक्सीन का लोगों पर ट्रायल किया जा रहा है। 92 वैक्सीन ऐसी है जिनका जानवरों पर प्री-क्लीनिकल ट्रायल हो रहा है। 5 वैक्सीन को सीमित उपयोग के लिए अनुमति दी गई है। चीन और रूस ने बिना तीसरे फेज का परिणाम जाने ही इन 5 वैक्सीन को अनुमति प्रदान कर दी है। विशेषज्ञों ने इसके गंभीर परिणामों की चेतावनी दी है।

ओवरऑल स्थिति: फेज वन में 29, फेज टू में 14, फेज थ्री में 11, और सीमित उपयोग के लिए अनुमति प्राप्त 5 वैक्सीन अभी तक हैं।

3. चीन को वैक्सीन की रेस में आगे क्यों माना जा रहा है?

4 वैक्सीन फेज थ्री में, इमरजेंसी अप्रूवल भी

चीन की चार कंपनियों की वैक्सीन ट्रायल फेज तीन में हैं। खास बात यह है चारों वैक्सीन को उपयोग के लिए इमरजेंसी अप्रूवल मिल चुका है। हाल ही में चीन ने कोविड-19 वैक्सीन एलायंस को-वैक्स को जॉइन किया है। इस एलायंस ने 2021 के अंत तक 200 करोड़ वैक्सीन के डोज 12 कमजोर देशों को देने का लक्ष्य रखा है। चीन का दावा है कि नवंबर 2020 के अंत तक वह पूर्ण सुरक्षित वैक्सीन बना लेगा। यही नहीं को-वैक्स योजना के तहत जिन 9 वैक्सीन को कोरोना के इलाज के लिए चुना गया है उसमें से दो चीन की हैं। एक वैक्सीन अमेरिका की, एक साउथ कोरिया, एक ब्रिटेन और एक वैक्सीन ग्लोबल पार्टनरशिप के तहत चुनी गई है।

4. वैक्सीन के मामले में भारत की स्थिति क्या है?

देश में अलग-अलग करीब 30 वैक्सीन पर काम जारी

भारत में कोरोना की तीन वैक्सीन का दूसरे/तीसरे चरण का ट्रायल चल रहा है। साल के अंत तक चार और वैक्सीन का एडवांस ट्रायल शुरू होने की उम्मीद है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने सितंबर माह में लोकसभा में बताया था कि करीब 30 वैक्सीन बनाने पर काम चल रहा है। भारतीय कंपनियों ने एस्ट्राजेनेका/ऑक्सफोर्ड और रूस की गामेलेया इंस्टीट्यूट से समझौते किए हैं। एस्ट्राजेनेका की वैक्सीन का उत्पादन भारत में सीरम इंस्टीट्यूट करेगी।

5. फेज थ्री ट्रायल में कौन-कौन सी वैक्सीन हैं

11 वैक्सीन का फेज-3 ट्रायल चल रहा है

अमेरिका: मार्डना सहित 3 टीके

  • यह वैक्सीन अमेरिका के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ की सहायता से विकसित की जा रही है। अमेरिकी शहर मैरीलैंड स्थित नोवावैक्स कंपनी भी नोवावैक्स नाम से वैक्सीन डेवलप कर रही है।
  • अमेरिका में जॉन्सन एंड जॉन्सन कंपनी भी वैक्सीन बना रही है।

जर्मनी: बायोएनटेक

  • जर्मन कंपनी बायोएनटेक न्यूयार्क बेस्ड संस्था फाइजर और चाइनीज दवा निर्माता कंपनी फोसुन फार्मा के साथ मिलकर यह वैक्सीन बना रही है।

चीन: ये चार प्रमुख वैक्सीन

  • साइनोफार्मा चीन के इंस्टीट्यूट ऑफ बायोलॉजी के साथ मिलकर वैक्सीन बना रही है। चीनी सेना ने इसे सीमित उपयोग के लिए अनुमति प्रदान कर दी है।
  • चाइनीज कंपनी सिनोवैक बायोटेक एक अन्य वैक्सीन डेवलप कर रही है। इस वैक्सीन का फेज-3 ट्रायल शुरू हो चुका है। इमरजेंसी अप्रूवल मिल चुका है।
  • वुहान इंस्टीट्यूट ऑफ बॉयोलॉजिकल प्रॉडक्ट्स , साइनोफार्मा कंपनी के साथ मिलकर एक और वैक्सीन बना रहा है। यूएई ने इसे इमरजेंसी अप्रूवल दे दिया है।
  • चीन की चौथी वैक्सीन पर बीजिंग इंस्टीट्यूट ऑफ बायोलॉजिकल प्रॉडक्ट्स काम कर रहा है। इस वैक्सीन को भी इमरजेंसी अप्रूवल मिल चुका है।

रूस: स्पुतनिक वी

  • रूस के गामेलेया रिसर्च इंस्टीट्यूट द्वारा इस वैक्सीन को डेवलप किया जा रहा हैा। बिना फेज थ्री ट्रायल के इसका उपयोग शुरू कर दिया गया था। अब इसका फेज थ्री ट्रायल किया जा रहा है।

ब्रिटेन: एस्ट्राजेनेका

  • ब्रिटिश स्वीडिश कंपनी एस्ट्रोजेनेका और ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी मिलकर यह वैक्सीन डेवलप कर रहे हैं।

ऑस्ट्रेलिया: बार्क

  • र्धोच चिल्ड्रेन रिसर्च इंस्टीट्यूट बार्क के नाम से वैक्सीन विकसित कर रहा है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- घर-परिवार से संबंधित कार्यों में व्यस्तता बनी रहेगी। तथा आप अपने बुद्धि चातुर्य द्वारा महत्वपूर्ण कार्यों को संपन्न करने में सक्षम भी रहेंगे। आध्यात्मिक तथा ज्ञानवर्धक साहित्य को पढ़ने में भी ...

और पढ़ें