पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Delhi ncr
  • Corona Curfew Extended Till June 7 In The Capital, Exemption To Manufacturing And Construction From Monday Morning

पाबंदियां रहेंगी जारी:राजधानी में 7 जून तक बढ़ा कोरोना कर्फ्यू, साेमवार सुबह से मैन्युफैक्चरिंग और कंस्ट्रक्शन को छूट

नई दिल्ली24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
राजधानी दिल्ली में सात जून की सुबह पांच बजे तक के लिए कोरोना कर्फ्यू को बढ़ा दिया गया है। - Dainik Bhaskar
राजधानी दिल्ली में सात जून की सुबह पांच बजे तक के लिए कोरोना कर्फ्यू को बढ़ा दिया गया है।

देश की राजधानी दिल्ली में सात जून की सुबह पांच बजे तक के लिए कोरोना कर्फ्यू को बढ़ा दिया गया है। पाबंदियां पहले की तरह लागू रहेंगी। हालांकि निर्माण और निर्माण उद्योग को संचालित करने की अनुमति है। इसकी जानकारी दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने दी।

दिल्ली सरकार ने कहा कि पॉजिटिविटी रेट को कम करने और कोरोना संक्रमण की चेन को तोड़ने के लिए पाबंदियों को बढ़ाने का निर्णय लिया गया है। दिल्ली सरकार ने इस बार दो उद्योगों- मैन्युफैक्चरिंग (निर्माण) और कंस्ट्रक्शन (निर्माण कार्य) को छूट दी है। सरकार ने अपने आदेश में कहा कि इन दोनों उद्योगों के कर्मचारियों को कोविड-19 के उपायों का सख्ती से पालन करते हुए काम करने की अनुमति दी गई है। दिल्ली सरकार ने कहा कि वह एक वायरस के अचानक प्रसार से बचने के लिए धीरे-धीरे चरणबद्ध तरीके से राजधानी को फिर से अनलॉक करेगी। कर्फ्यू 7 जून की सुबह 5 बजे तक जारी रहेगा। आवश्यक गतिविधियों और सेवाओं को मिली छूट पहले की तरह जारी रहेगी। आवश्यक वस्तुओं और सेवाओं से जुड़े लोगों के पास मौजूद ई-पास पहले की तरह आवागमन के लिए वैध होंगे।

फैक्ट्री मालिकों की नाराजगी, बोले- कहां से लाएंगे कच्चा माल, श्रमिक भी चले गए

दिल्ली में कोरोना का मामला घटने के बाद दिल्ली सरकार द्वारा रविवार से फैक्ट्रियों को अनलॉक करने के निर्णय का अधिकतर फैक्ट्री मालिकों ने नाराजगी जताई है। फैक्ट्री मालिकों ने कहा है कि पिछली कोरोना संक्रमण की वजह से लगाए गए पहले लॉकडाउन से अभी उबरे भी नहीं थे कि दोबारा लॉकडाउन लग गया। इस बार लॉकडाउन ने उन्हें और पूरी तरह से बर्बाद कर दिया है। फैक्ट्री मालिकों ने कहा कि फैक्ट्री चलाने का आदेश तो दे दिया गया है, लेकिन लॉकडाउन के कारण 80 फीसदी मजदूर घर चले गए हैं।

दुकान बंद होने के कारण कच्चे सामान का भी संकट है। अबर हम फैक्ट्री में, समान का उत्पादन कर भी लेते हैं तो बाजार बंद होने के कारण उसे बेचना मुश्किल है। इसलिए फैक्ट्री खोलने के पहले दिल्ली सरकार को थोक मार्केट और मार्केट को खोलना चाहिए जहां से पहले कच्चा माल ले सकें और बाद में माल तैयार कर बाजारों में दुकानदारों को बेच सकें। फैक्ट्री मालिकों ने कहा कि फैक्ट्री बंद होने के बावजूद वह लोग किराया, बिजली और पानी का बिल चुका रहे हैं।

खबरें और भी हैं...