पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Delhi ncr
  • Corona Patient Informed The Police About Blackening The Oxygen Cylinder, Becoming A Customer, The Police Arrested Him By Bargaining With The Accused

दिल्ली में ऑक्सीजन की कालाबाजारी:कोरोना मरीज ने पुलिस को ऑक्सीजन सिलेंडर ब्लैक करने के बारे में दी जानकारी, ग्राहक बनकर पुलिस ने किया गिरफ्तार

नई दिल्लीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कोरोना मरीज की शिकायत पर पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार किया। - Dainik Bhaskar
कोरोना मरीज की शिकायत पर पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार किया।

कोरोना आपदा में भी जीवन रक्षक दवाओं की ब्लैक मार्केटिंग करने वाले लोगों पर पुलिस की नजर है। ऐसे लोगों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जा रही है, इसके बाद भी लोग गलत काम करने से बाज नहीं आ रहे। नार्थ दिल्ली के लाहौरी गेट इलाके से एक शख्स को गिरफ्तार किया गया है, जो छोटे ऑक्सीजन सिलेंडर ब्लैक कर रहा था। पुलिस ने इसके पास से दो छोटे ऑक्सीजन सिलेंडर बरामद किए हैं।

डीसीपी नार्थ डिस्ट्रिक एंटो अल्फोंस ने बताया तीन मई को पुलिस मुख्यालय कोिवड सेल से एक शिकायत मिली, जिसमें कॉलर सैलेश गुप्ता ने फोन पर बताया चांदनी चौक नोवल्टी सिनेमा के पास एक शख्स ऊंचे दाम पर ऑक्सीजन सिलेंडर बेच रहा है। पुलिस को शिकायतकर्ता ने बताया वह कोरोना का मरीज है और उसका ऑक्सीजन लेवल बेहद कम है। ऐसे में वह पुलिस को बयान देने की स्थिति में नहीं है। लिहाजा, पुलिस ने दिए गए नंबर पर ग्राहक बनकर संपर्क किया और ऑक्सीजन सिलेंडर खरीदने की इच्छा जाहिर की।

आरोपी बारह लीटर के दो छोटे ऑक्सीजन सिलेंडर बेचने के लिए राजी हो गया। एक की कीमत 1800 रुपए बतायी गई। आरोपी ने ग्राहक बने पुलिसकर्मी के मोबाइल पर ऑक्सीजन सिलेंडर की तस्वीर भी भेज दी। लाहौरी गेट थानाध्यक्ष जरैनल सिंह की टीम ने एसपीएस मार्ग पर शाम को ट्रैप लगाया और डिलीवरी देने के लिए पहुंचे आरोपी को पकड़ लिया।

पुलिस ने जब इस ऑक्सीजन सिलेंडर की एमआरपी चैक की तो पता चला उसे पहले से मिटाकर रखा गया था। ऑनलाइन चैक करने पर पता चला उसकी कीमत साढ़े चार सौ रुपए है। आरोपी के खिलाफ लाहौरी गेट थाने में पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर उसे अरेस्ट किया। आरोपी ने बताया वह पेशे से इलेक्ट्रेशियान है। उसने छह ऑक्सीजन सिलेंडर गाजियाबाद से लिए थे जिनमें से वह चार बेच भी चुका है। उसका कहना है कोरोना काल में रोजी रोटी का कोई साधन नहीं था, इस वजह से वह खरीदे गए सामान को ज्यादा कीमत पर बेचने लगा।