पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोरोना महामारी:केंद्र से डेंटल सर्जन-डेंटिस्ट को कोविड इलाज में लगाने की मांग

नई दिल्ली12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
डॉ. चांदना ने बताया कि एक डेंटिस्ट शरीर के संबंध में वह सभी पढ़ाई करता है जो एक एमबीबीएस डॉक्टर करता है। - Dainik Bhaskar
डॉ. चांदना ने बताया कि एक डेंटिस्ट शरीर के संबंध में वह सभी पढ़ाई करता है जो एक एमबीबीएस डॉक्टर करता है।

देश में कोरोना की तीसरी संभावित लहर को देखते हुए डेंटल काउंसिल ऑफ इंडिया (डीसीआई) केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय से कोविद की तीसरी लहर को देखते हुए देशभर में मौजूद डेंटिस्ट्स को नियुक्त करने की मांग की है। डीसीआई ने कहा है कि कोरोना के मरीजों के बेहतर इलाज की दिशा में डेंटिस्टों की नियुक्ति प्रभावी कदम होगा।

डीसीआई ने इसके लिए डेंटिस्ट्स के लिए बेहद छोटी अवधि के एक ब्रिज कोर्स की भी मांग की ताकि कोरोना के दौरान आने वाली समस्‍याओं और उनसे निपटने के लिए ये बतौर एक्सपर्ट काम कर सकें। डीसीआई के एक्जीक्यूटिव सदस्‍य डॉ. अनिल चांदना ने बताया कि जिस तरह कोरोना की दोनों लहरों के दौरान मरीजों की संख्‍या बढ़ी थी, ऐसे में डॉक्टरों की कमी हो गई थी। उन्होंने बताया कि अगर कोरोना की तीसरी लहर में आई तो बड़ी संख्‍या में डॉक्‍टरों की संख्या भी बढ़ाने की जरूरत पड़ेगी। जिसे एकाएक नहीं बढ़ाया जा सकता।

भारत में 35-40 हजार की संख्‍या में मौजूद डेंटल सर्जन या डेंटिस्ट को कोविद उपचार में लगाकर डॉक्टरों की कमी को केंद्र और राज्य सरकार पूरा कर सकती है। डॉ. चांदना ने बताया कि एक डेंटिस्ट शरीर के संबंध में वह सभी पढ़ाई करता है जो एक एमबीबीएस डॉक्टर करता है।

खबरें और भी हैं...