राजनीति:नोटबंदी-जीएसटी-देशबंदी मास्टर स्ट्रोक नहीं, डिजास्टर स्ट्रोक : कांग्रेस

नई दिल्लीएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला। - Dainik Bhaskar
कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला।
  • अर्थव्यवस्था बर्बाद हाे गई है, जीडीपी पाताल में है। देश काे आर्थिक आपातकाल की तरफ धकेला जा रहा है

जीडीपी के पहली तिमाही के आंकड़े आने के बाद कांग्रेस ने आराेप लगाया है कि 73 साल में पहली बार जीडीपी की वृद्धि दर पहली तिमाही में माइनस 24% रही है। इसका मतलब है देशवासियाें की औसत आय गिरेगी। केंद्र सरकार के कदम “नोटबंदी-जीएसटी-देशबंदी’ मास्टर स्ट्रोक नहीं, “डिजास्टर स्ट्रोक’ साबित हुए हैं।

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने आराेप लगाया कि 6 साल से एक्ट ऑफ फ्राॅड से अर्थव्यवस्था काे डुबाेने वाली सरकार इसका जिम्मा एक्ट ऑफ गाॅड यानी भगवान पर मढ़कर अपना पीछा छुड़वाना चाहती है। उन्हाेंने कहा कि आज देश में आर्थिक तबाही का घनघाेर अंधेरा है। राेजी, राेटी, राेजगार खत्म हाे गए हैं और धंधे, व्यवसाय व उद्याेग ठप पड़े हैं। अर्थव्यवस्था बर्बाद हाे गई है, जीडीपी पाताल में है। देश काे आर्थिक आपातकाल की तरफ धकेला जा रहा है।

उन्हाेंने कहा कि लाेगाें का विश्वास सरकार से पूरी तरह उठ चुका है। लघु, छाेटे और मध्यम उद्याेगाें काे बैंक कर्ज नहीं देते हैं। सरकार का 20 लाख कराेड़ रुपए का जुमला आर्थिक पैकेज भी डूबती अर्थव्यवस्था काे राेकने में फेल साबित हुआ है। 73 साल में पहली बार केंद्र सरकार घाेषित रूप से डिफाॅल्टर हाे गई है। महंगाई की मार, सरकारी टैक्स की भरमारऔर मंदी की मार से आम आदमी की कमर टूट जाएगी। समय आ गया है कि देश काे इस अंधेरी गुफा से निकाल नए रास्ते पर ले जाया जाए।

खबरें और भी हैं...