पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री का निरीक्षण:हर्षवर्धन ने कहा- केंद्र राज्यों और यूटी के साथ मिलकर कोराेना के खिलाफ लड़ाई का नेतृत्व कर रही है

नई दिल्लीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
डॉ. हर्ष वर्धन ने अंत में डीआरडीओ द्वारा स्थापित ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्र का निरीक्षण किया। - Dainik Bhaskar
डॉ. हर्ष वर्धन ने अंत में डीआरडीओ द्वारा स्थापित ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्र का निरीक्षण किया।

केंद्रीय स्वास्थ्य तथा परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने शुक्रवार नई दिल्ली के डॉ. राम मनोहर लोहिया अस्पताल में कोविड-19 के गंभीर रोगियों के नैदानिक प्रबंधन की तैयारियों की समीक्षा की। वह दिल्ली की जनता की सेवा में कार्यरत केन्द्र सरकार के अस्पतालों में कोविड-19 के प्रबंधन की स्वयं समीक्षा करते रहते हैं और उन्होंने हाल ही में लेडी हार्डिंग मेडिकल कॉलेज का भी निरीक्षण किया था।

कोविड-19 के दैनिक मामलों में अभूतपूर्व उछाल को देखते हुए राजधानी में ऑक्सीजन की निर्बाध आवश्यकता और आईसीयू बिस्तर बढ़े हैं, इसके अलावा राजधानी में दवाओं और प्रशिक्षित कर्मचारियों की कई गुणा वृद्धि हुई है। भारत सरकार अग्रसक्रिय और श्रेणीकृत दृष्टिकोण के अनुरूप दिल्ली में उभरती स्थिति की निरंतर समीक्षा कर रही है। केंद्र सरकार पूर्ण सरकार के दृष्टिकोण के माध्यम से राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों के साथ मिलकर कोविड-19 महामारी के खिलाफ लड़ाई का नेतृत्व कर रही है।

केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने अस्पताल में टीकाकरण केन्द्र भी देखा और उन्होंने वैक्सीन लगवा रहे लाभार्थियों के साथ बातचीत की और वैक्सीन लगवा चुके उन लोगों से मुलाकात की, जिनमें वैक्सीन लगवाने के बाद मामूली विपरीत प्रभाव हुए थे। उन सब ने केन्द्रीय मंत्री को भरोसा दिलाया कि समूची प्रक्रिया सुचारू रूप से काम कर रही है। वैक्सीन लगवाने लाभार्थियों ने बताया कि उन्हें वैक्सीन लेने के बाद कोई कठिनाई महसूस नहीं हुई।

कोविड बिस्तर बढ़ाकर 215 किए गए हैं| डॉ. हर्षवर्धन ने ऑक्सीजन युक्त और आईसीयू वेंटिलेटर वाले बिस्तरों समेत बिस्तरों की उपलब्धता की विस्तारपूर्वक समीक्षा की। अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक डॉ. ए.के. सिंह राणा ने बताया कि कोविड रोगियों की तत्काल आवश्यकता पूरी करने के लिए बिस्तरों की उपलब्धता बढ़ाए जाने के कदम उठाए जा रहे हैं।

डॉ. राम मनोहर लोहिया अस्पताल में प्रारंभ में दो भवनों में 172 कोविड बिस्तर थे, जिनमें से 158 ऑक्सीजन युक्त और 14 आईसीयू बिस्तर थे। कोविड के संदिग्ध ब्लॉक में कोविड के लक्षण वाले रोगियों को भर्ती किया जाता है, उसमें अन्य 44 बिस्तर हैं जिनमें से 30 ऑक्सीजन युक्त और 14 आईसीयू बिस्तर हैं।

कोरोना के मामले में हाल ही में आए उछाल के दौरान कोविड बिस्तर बढ़ाकर 215 किए गए हैं, जिसके लिए 33 नये ऑक्सीजन युक्त बिस्तर जोड़े गए और कोविड के पुष्ट रोगियों के उपचार के लिए 10 संदिग्ध कोविड आईसीयू बिस्तर इस्तेमाल किए जा रहे हैं।

भारत सरकार से मिली वैक्सीन के 70 प्रतिशत भाग को दूसरी खुराक के लिए आवंटित करने की राज्यों से की अपील

डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि प्रत्येक लाभार्थी को पूर्ण सुरक्षा के लिए वैक्सीन की दूसरी खुराक अवश्य लेनी चाहिए और दूसरी खुराक के बाद कोविड अनुकूल व्यवहार का अवश्य पालन करना चाहिए तथा जरूरी सावधानियां बरतनी चाहिए। मीडिया के माध्यम से उन्होंने राज्यों से अपील की कि वे भारत सरकार से मिली वैक्सीन में से 70 प्रतिशत भाग का दूसरी खुराक के लिए इस्तेमाल करें।

इसके बाद उन्होंने हेल्थ केयर वर्कर्स के साथ विचार-विमर्श किया और महामारी के पूरे काल खंड के दौरान उनकी अडिग प्रतिबद्धता के लिए आभार व्यक्त किया। केन्द्रीय मंत्री ने उन्हें बताया कि चिकित्सा कर्मियों की संख्या में वृद्धि करने के सरकार के हाल के निर्णय से उनके कार्य के बोझ में काफी कमी आएगी और इससे उन्हें राहत मिलेगी।

डीआरडीओ द्वारा स्थापित ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्र का किया निरीक्षण| डॉ. हर्ष वर्धन ने अंत में डीआरडीओ द्वारा स्थापित ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्र का निरीक्षण किया। अस्पताल में दो लिक्विड ऑक्सीजन चैम्बर हैं जिनमें से एक की क्षमता 12 मीट्रिक टन है और जबकि दूसरे की क्षमता 10 मीट्रिक टन है।

अस्पताल के कर्मचारियों और रोगियों के संबंधियों ने हाइफ्लो 1000 लीटर प्रति मिनट के संयंत्र को शीघ्र स्थापित करने के लिए संतोष व्यक्त किया। ये संयंत्र ऑक्सीजन की वर्तमान उपलब्धता में अत्यधिक पूरक साबित होगा।

खबरें और भी हैं...