पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Delhi ncr
  • If The Line Of Vehicles At The Toll Plaza Is More Than 100 Meters, Then The Toll Will Not Be Paid.

NHI की नई गाइडलाइन्स:वाहनों की लाइन यदि 100 मीटर से ज्यादा हुई तो नहीं देना पड़ेगा टोल, नए दिशा-निर्देश जारी किए

नई दिल्ली4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
वाहन चालकों से टोल लेने की प्रक्रिया अधिकतम 10 सेकंड में पूरी करनी होगी। - Dainik Bhaskar
वाहन चालकों से टोल लेने की प्रक्रिया अधिकतम 10 सेकंड में पूरी करनी होगी।

देश भर में टोल नाकों पर वाहनों का वेटिंग टाइम कम करने को लेकर भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण ने नए दिशा-निर्देश जारी किए हैं। इसके मुताबिक अगर टोल नाकों पर वाहनों की कतार 100 मीटर से ज्यादा होगी, तो उनसे टोल नहीं वसूला जाएगा। इसके अलावा प्रत्येक वाहन को 10 सेकंड में सेवा दे दी जानी चाहिए।

एनएचआई ने कहा, ‘फास्टैग की वजह से ज्यादातर टोल पर इंतजार नहीं करना पड़ता, लेकिन किसी कारण कतार 100 मीटर से अधिक होती है तो, सभी वाहनों को बिना टोल दिए जाने की अनुमति होगी। यह तब तक चलता रहेगा, जब तक कि वाहनों की कतार वापस 100 मीटर के अंदर नहीं पहुंच जाती।’ इसे लागू करने के लिए टोल लाइन में 100 मीटर पर पीली लाइन खींची जाएंगी। एनएचआईए ने कहा कि ये कदम टोल ऑपरेटरों में जवाबदेही की भावना पैदा करने के लिए उठाए गए हैं।

100% कैशलेस टोल कलेक्शन में मिली कामयाबी
एनएचआईए के मुताबिक, फरवरी 2021 से अब तक 100% कैशलेस टोलिंग रही है। एनएचएआई के टोल नाकों पर फास्टैग की उपलब्धता कुल 96% और कई जगह तो 99% तक पहुंच गई है। संस्थान के मुताबिक हाईवे यूजर्स द्वारा फास्टैग के बढ़ते इस्तेमाल की वजह से टोल नाकों के संचालन में ज्यादा दक्षता लाने में मदद मिली है।

कोरोना में बढ़ा फास्टैग का चलन, इससे संपर्क में नहीं आते कर्मचारी
एनएचआईए ने कहा कि कोरोना महामारी के नियमों के सोशल डिस्टेंसिंग एक नया और महत्वपूर्ण नियम बन चुका है। फास्टैग के बढ़ते इस्तेमाल की वजह से इसका पालन भी आसानी से किया जा रहा है। इसकी वजह से टोल नाका संचालक और वाहन के यात्री संपर्क में भी नहीं आते।
अगले 10 साल के ट्रैफिक के हिसाब के तैयार किए जाएंगे नए टोल प्लाजा
एनएचआईए ने कहा है कि इलेक्ट्रॉनिक टोल संग्रह को ध्यान में रखते हुए अगले 10 वर्षों के हिसाब से प्लानिंग की जा रही है। आने वाले समय में ट्रैफिक के अनुमान को ध्यान में रखते हुए टोल प्लाजा के आकार और निर्माण पर जोर दिया जाएगा, ताकि टोल संग्रह प्रणाली को कुशल बनाया जा सके।

खबरें और भी हैं...