• Hindi News
  • Local
  • Delhi ncr
  • In Kovid, The Woman Saved The Lives Of Four People By Giving Her Liver, Two Kidneys And Heart After Her Death.

अंगदान बना जीवनदान:कोविड में महिला ने मौत के बाद लीवर, दो गुर्दे व हार्ट देकर चार लोगों की बचाई जान

नई दिल्ली5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • ब्रेन डेड घोषित महिला से चार को मिला जीवनदान

कोविड-19 महामारी में एक महिला ने मौत के बाद लीवर, दो गुर्दे व हार्ट दान देकर 4 लोगों को जिंदगी दी है। मृतक महिला 7 भाई-बहनों में इकलौती बहन थी। परिवार में 21 वर्षीय बेटे और पति को छोड़ गई है। उचित परामर्श के बाद परिवार उसके अंगों को दान करने और उसकी यादों को जीवित रखने के लिए उत्सुक था।

उनकी मृत्यु में भी वे चाहते थे कि वह अंग विफलता वाले कई और व्यक्तियों को जीवन दें। सर गंगा राम अस्पताल के को-चेयरमैन, डिपार्टमेंट ऑफ़ सर्जिकल गेस्ट्रोएंट्रोलॉजी एंड लीवर ट्रांसप्लांटेशन, डॉ नैमिष एन मेहता ने बताया कि गैर कोविड 43 वर्षीय महिलाएं उच्च रक्तचाप से ग्रस्त थी।

उसे अचानक उल्टी और तेज सिरदर्द हुआ, जिसके लिए वे 20 मई को सर गंगा राम अस्पताल के आपातकालीन विभाग लाई गई। एडमिशन के समय महिला की हालत खराब थी। जांच से पता चला कि उसे गंभीर ब्रेन हेमरेज हुआ था और पुनर्जीवन के सभी प्रयासों के बावजूद उसे ब्रेन डेड घोषित कर दिया गया था।

अंगदान में आई कमी | डॉ मेहता के अनुसार कैडवर अंगों के लिए एक बड़ी प्रतीक्षा सूची है और कोविड .19 महामारी के साथ अंग दान दर में उल्लेखनीय कमी आई है। देश भर में सर गंगा राम अस्पताल में वर्तमान में 179 मरीज कैडवर लीवर और 484 मरीज कैडवर किडनी प्रत्यारोपण के इंतजार में हैं। भारत में अंगदान दर प्रति मिलियन जनसंख्या पर 0.65 से 1 के बीच है, जबकि स्पेन में यह 35 पीएमपी और यूएसए में 26 पीएमपी तक है।

लीवर 58 वर्षीय व्यक्ति को किया ट्रांसप्लांट | डॉ मेहता के नेतृत्व में डॉक्टरों की एक टीम ने अंगों को निकाला। एक 58 वर्षीय व्यक्ति में लीवर ट्रांसप्लांट किया गया था, जो 2 साल से अधिक समय से सूची में इंतजार कर रहा था और अपने जीवित रहने के लिए एक अंग प्राप्त करने की उम्मीद लगभग छोड़ दी थी। प्राप्त किए गए अन्य अंग 2 गुर्दे और हृदय थे। सर गंगा राम अस्पताल में एक किडनी ट्रांसप्लांट की गई और बाकी अंगों को दिल्ली एनसीआर के अन्य अस्पतालों में भेज दिया गया।

खबरें और भी हैं...