पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

किसान आंदोलन:जाम के मद्देनजर 50 हजार जवान किए तैनात, आईटीओ व लाल किला को छावनी बना दिया

नई दिल्लीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सुरक्षा के लिए बंद किए मेट्रो स्टेशन देर शाम खोले गए - Dainik Bhaskar
सुरक्षा के लिए बंद किए मेट्रो स्टेशन देर शाम खोले गए
  • कड़ी सुरक्षा के बीच किसानों का चक्का जाम शांतिपूर्वक खत्म
  • सुरक्षा के लिए बंद किए मेट्रो स्टेशन देर शाम खोले गए

कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे किसानों द्वारा शनिवार को चक्का जाम के कारण पैदा होने वाली दिक्कतों से निपटने के लिए दिल्ली पुलिस ने गाजीपुर, सिंघू और टिकरी बॉर्डर के अलावा पूरी दिल्ली में सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए थे। साथ ही आईटीओ व लाल किले को छावनी में तब्दील कर दिया गया। दिल्ली पुलिस जवानों के अलावा हर जगह अर्द्ध-सैन्य बल भी मौजूद रहें।

पुलिस ने चक्का जाम के समर्थन में दिल्ली में प्रदर्शन कर रहे करीब 60 लोगों को शहीदी पार्क के पास से हिरासत में ले लिया है। गणतंत्र दिवस पर हिंसा के बाद दिल्ली पुलिस ने चक्का जाम के दौरान हिंसा से बचने के लिए अतिरिक्त उपाय किए थे।

बता दे कि किसान संगठनों ने अपने आंदोलन स्थलों के आसपास के क्षेत्रों में इंटरनेट पर रोक लगाए जाने, अधिकारियों द्वारा कथित रूप से उन्हें प्रताड़ित किए जाने और अन्य मुद्दों को लेकर चक्का जाम की घोषणा की थी। उन्होंने इसका समय दोपहर 12 बजे से 3 बजे तक रखा था।

सुरक्षा के लिए 50 हजार जवान थे तैनात
दिल्ली पुलिस ने किसानों के चक्का जाम को देखते हुए पहले ही मजबूती के साथ सिंघू बॉर्डर पर बैरिकेडिंग कर दी। इस बैरिकेडिंग में लोहे के बड़े-बड़े सरिए, नुकीले तार, सड़क में खाई खोदकर कंक्रीट के साथ दबाए गए। बैरिकेडिंग दिल्ली के सभी बॉर्डर पर की गई है जहां पर किसान आंदोलन कर रहे हैं।

सुरक्षा के मद्देनजर दिल्ली-एनसीआर क्षेत्र में दिल्ली पुलिस, पैरामिलिट्री और रिजर्व फोर्सेस के करीब 50 हजार जवान तैनात किए थे। चक्का जाम को मद्देनजर रखते हुए दिल्ली से उत्तर प्रदेश को जोड़ने वाले नेशनल हाईवे-9 पर 14 लेयर की बैरिकेडिंग की गई है।

बैरिकेडिंग पर कंटीले तार लगाए गए हैं, साथ ही 4 लेयर की बैरिकेडिंग के बाद दिल्ली पुलिस ने सीमेंटेड बैरिकेडिंग भी की है। बैरिकेडिंग के पीछे भारी तादाद में पुलिस बल तैनात किया गया है, साथ ही सीआरपीएफ के जवानों की भी तैनाती की गई है। शहीदी पार्क के सामने जेएनयू से जुड़े लेफ्ट विंग एसएफआई के करीब 8 छात्र अचानक पोस्टर-बैनर लेकर वहां आ गए और नारेबाजी करने लगे। दिल्ली पुलिस ने मामले की गंभीरता को देखते हुए उन्हें हिरासत में ले लिया।

मेट्रो स्टेशन खोले गए
सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए बंद किए मेट्रो स्टेशन को चक्का जाम के बाद खोल दिए है। अब सभी स्टेशनों पर सामान्य आवा गमन हो रहा है। बता दें दिल्ली पुलिस के निर्देश पर 12 मेट्रो स्टेशनों को बंद किया गया था। इनमें खान मार्केट, नेहरू प्लेस, मंडी हाउस, आईटीओ, दिल्ली विश्वविद्यालय, लाल किला, जामा मस्जिद, जनपथ, सेंट्रल सेक्रेटेरिएट और दिल्ली गेट मेट्रो स्टेशन शामिल हैं। इन मेट्रो स्टेशन से न तो यात्री अंदर आ सकें और ना ही बाहर निकल सकें।

बुराड़ी में हिंसा के मामले में 3 अरेस्ट

26 जनवरी को हुई हिंसा में शामिल रहे तीन लोगों को अरेस्ट किया गया है। इनके नाम हरपाल सिंह उर्फ जॉनी (32), हरजीत सिंह उर्फ लक्की (48) और धर्मेंद्र सिंह उर्फ काले (55) है। पुलिस ने इनसे बाइक स्कूटी और मोबाइल फोन बरामद किए हैं। कोर्ट में पेशी के बाद इन्हें जेल भेज दिया गया।

पुलिस के मुताबिक ट्रैक्टर मार्च के दौरान अलग-अलग इलाकों में हिंसा हुई थी। सिंघू बॉर्डर से लालकिला की ओर कूच कर रहे किसानों को बुराड़ी फ्लाईओवर के पास बैरिकेडिंग कर रोकने का प्रयास किया गया था। इस पर लोग उग्र हो गए और उन्होंने पुलिस टीम पर हमला कर दिया। इस दौरान अर्धसैनिक बल के असिस्टेंट कमांडेंट समेत कुल 30 पुलिसकर्मी जख्मी हुए थे।

किसानों के समर्थन में शहीदी पार्क पहुंचे 60 लोगों को हिरासत में लिया

कृषि कानूनों के विरोध में शनिवार दोपहर आईटीओ शहीदी पार्क में कई वाम संगठन के सैकड़ों लोग जुट गए। यहां पहुंचे लोगों ने सरकार के खिलाफ नारेबाजी कर तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग की। पुलिस ने यहां से करीब 60 महिलाओं व पुरुषों को हिरासत में लिया। इन सभी को राजेंद्र नगर थाने ले जाया गया, जहां से एक-डेढ़ घंटे बाद सभी को छोड़ दिया गया।

इससे पहले दिल्ली पुलिस आयुक्त एसएन श्रीवास्तव ने यहां पहुंचकर सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लिया। शनिवार को किसानों के समर्थन में कुछ वामपंथी संगठनों ने शहीदी पार्क पहुंच धरना देने की बात कही थी। जिसे देखते हुए पूरे इलाके में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए।

पुलिस आयुक्त खुद यहां की सुरक्षा का जायजा लेने के लिए पहुंच गए। करीब 12.30 बजे जनवादी महिला समिति और केवाईएस के कुछ लोग शहीदी पार्क आए। जिनमें ज्यादातर महिलाओं थीं। पुलिस के मना करने के बाद भी ये नारेबाजी करते रहे। आखिर में पुलिस ने सभी को हिरासत में ले लिया।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आप बहुत ही शांतिपूर्ण तरीके से अपने काम संपन्न करने में सक्षम रहेंगे। सभी का सहयोग रहेगा। सरकारी कार्यों में सफलता मिलेगी। घर के बड़े बुजुर्गों का मार्गदर्शन आपके लिए सुकून दायक रहेगा। न...

    और पढ़ें