नियमानुसार हों नियुक्तियां:नेता प्रतिपक्ष बिधूड़ी ने कहा- सिविल डिफेंस की यूनिफार्म को तुरंत बदला जाए और बोर्ड भी बने

नई दिल्ली2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
रामवीर सिंह बिधूड़ी ने सिविल डिफेंस की नियुक्ति के लिए बोर्ड बनाने और पूरी प्रक्रिया को पारदर्शी बनाने की मांग की है। - Dainik Bhaskar
रामवीर सिंह बिधूड़ी ने सिविल डिफेंस की नियुक्ति के लिए बोर्ड बनाने और पूरी प्रक्रिया को पारदर्शी बनाने की मांग की है।

भाजपा ने सिविल डिफेंस की नियुक्तियां नियमानुसार करने, पुलिस की देखरेख में गठित किया जाए नियुक्ति बोर्ड,सिविल डिफेंस की यूनिफार्म को भी तुरंत बदलने की मांग की है। दिल्ली विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष रामवीर सिंह बिधूड़ी ने राजधानी में सिविल डिफेंस की नियुक्ति के लिए बोर्ड बनाने और पूरी नियुक्ति प्रक्रिया को नियमानुसार व पारदर्शी बनाने की मांग की है। उन्होंने कहा है कि सिविल डिफेंस की यूनिफार्म भी बदली जाए।

बिधूड़ी ने उपराज्यपाल अनिल बैजल से अनुरोध किया है कि सिविल डिफेंस में नियुक्तियों के लिए नियम-कायदे बनाए जाने चाहिए ताकि आपराधिक प्रवृति का कोई व्यक्ति उसमें भर्ती न हो जाए। अभी की गई नियुक्तियों में पुलिस वेरिफिकेशन जैसी जरूरी एहतियात भी नहीं बरती गई।

इसका नतीजा यह हुआ है कि आए दिन ऐसे समाचार आ रहे हैं जिनमें पता चलता है कि सिविल डिफेंस स्टाफ आपराधिक गतिविधियों में संलिप्त है। अभी दो दिन पहले ही मास्क न पहनने पर चालान के नाम पर अवैध वसूली करते हुए सिविल डिफेंस के एक स्टाफ को पकड़ा गया है। इससे पहले भी डकैती तक की वारदात में सिविल डिफेंस स्टाफ संलिप्त पाया गया है।

बिधूड़ी ने सुझाव दिया है कि सिविल डिफेंस की नियुक्ति के लिए दिल्ली पुलिस की देखरेख में बोर्ड गठित किया जाना चाहिए। जिला स्तर पर नियुक्तियां हों और इलाके के डीसीपी और दो एसीपी इस बोर्ड में शामिल किए जाएं। नियुक्ति के लिए न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता के साथ लिखित परीक्षा, फिजिकल टेस्ट, इंटरव्यू और पुलिस वेरिफिकेशन होने के बाद ही सिविल डिफेंस में भर्ती की जाए।

बिधूड़ी ने कहा है कि सिविल डिफेंस की यूनिफार्म भी तुरंत बदली जानी चाहिए। इसकी वजह यह है कि सिविल डिफेंस की यूनिफार्म दिल्ली पुलिस की यूनिफार्म से हू-ब-हू मिलती है। सिविल डिफेंस स्टाफ द्वारा की जा रही अवैध वसूली या फिर अन्य आपराधिक गतिविधियों में संलिप्त होने पर बदनामी भी दिल्ली पुलिस की ही होती है।

खबरें और भी हैं...