संकट में ऑटोमोबाइल कंपनियां:कोरोना महामारी के बीच ऑक्सीजन संकट को देखते हुए कई ऑटो मोबाइल कंपनियां रहेंगी बंद

गुरुग्राम6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
400 से अधिक सहायक कंपनियां भी रहेंगी बंद। - Dainik Bhaskar
400 से अधिक सहायक कंपनियां भी रहेंगी बंद।
  • मारुति उद्योग व सहायक कंपनियां अब 9 मई तक नहीं 15 मई तक रहेंगी बंद

कोरोना संकट की मार आखिरकार ऑटोमोबाइल कंपनियों पर पड़ ही गई है। एक मई से 15 मई तक न केवल मारुति सुजुकी इंडिया लिमिटेड के गुड़गांव एवं मानेसर प्लांट बंद रहेंगे। बल्कि संबंधित 400 से अधिक अन्य सहायक कंपनियां भी बंद रहेंगी। यही नहीं सुजुकी मोटर कारपोरेशन का गुजरात प्लांट भी बंद रहेगा। ऑक्सीजन संकट को देखते हुए मारुति सुजुकी प्रबंधन ने यह निर्णय लिया है। पिछले कुछ दिनों से कोरोना का संक्रमण तेजी से बढ़ता जा रहा है। इससे ऑक्सीजन गैस की मांग भी तेजी से बढ़ती जा रही है। मारुति सुजुकी के प्लांटों के साथ ही संबंधित औद्योगिक इकाइयों में भी ऑक्सीजन गैस का उपयोग किया जाता है। इस समय कोरोना मरीजों की जिंदगी बचाने की आवश्यकता है। इसके लिए ऑक्सीजन की कमी नहीं होनी चाहिए।

बताया जाता है कि मारुति सुजुकी के लिए गुड़गांव में 400 से अधिक औद्योगिक इकाइयां काम करती हैं। मारुति सुजुकी के बंद होते ही अपने आप ही सभी संबंधित इकाइयां बंद हो जाएंगी। मारुति सुजुकी के प्लांटों में बंदी के दौरान रखरखाव के कार्य किए जाएंगे। यह कार्य हर साल जून में किया जाता था। अब जून में प्लांट नहीं बंद किए जाएंगे।

कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए हरियाणा में हीरो मोटो कॉर्प के दोनों प्लांट बुधवार से दो मई तक के लिए बंद कर दिए गए। वैसे बंदी एक मई तक है लेकिन दो मई रविवार होने की वजह से भी प्लांट बंद रहेंगे। इसी तरह ऑटोमोबाइल सेक्टर की बड़ी कंपनियों में से एक मुंजाल शोवा लिमिटेड के भी प्लांट बुधवार से दो मई तक के लिए बंद कर दिए गए है। हालांकि मारुति उद्योग को पहले नौ मई तक बंद रखने की योजना थी, लेकिन अब प्रबंधन ने समय बढ़ाकर 15 मई तक कर दिया है।

खबरें और भी हैं...