कोरोना संकट में भी फायदा ढूंढ रहे लोग:मर्सिडीज और ऑडी रखने वाले भी कर रहे कालाबाजारी, ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर ब्लैक करने के 4 आरोपी गिरफ्तार; करीब 2 करोड़ की मशीन बरामद

नई दिल्ली6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पुलिस ने इन सभी के खिलाफ सराय रोहिल्ला थाने में मुकदमा दर्ज कर उन्हें अरेस्ट किया है। - Dainik Bhaskar
पुलिस ने इन सभी के खिलाफ सराय रोहिल्ला थाने में मुकदमा दर्ज कर उन्हें अरेस्ट किया है।

ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर को ब्लैक में बेचने वाले एक गैंग का पर्दाफाश हुआ है। इस सिलसिले में पुलिस ने चार लोगों को अरेस्ट किया है। पुलिस ने इनके पास से 168 ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर बरामद किए हैं, जिसकी कीमत करीब दो करोड़ रुपए बताई गई है। इस ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर को 90 हजार से 1 लाख 10 हजार रुपए कीमत पर बेचा जा रहा था। पुलिस ने इस केस में एक ऑडी कार और मर्सिडीज कार भी जब्त की है। आरोपियों की पहचान विजय नगर निवासी हिमांशु (26), शास्त्री नगर निवासी पवन मितल (26), मॉडल टाउन निवासी हिमांशु (34) व आयुष (28) के तौर पर हुई।

DCP नार्थ डिस्ट्रिक एंटो अल्फोंस ने बताया कोरोना के इस संकट में जीवन रक्षक दवाईयों को ब्लैक करने वाले लोगों पर पुलिस नजर बनाए हुए हैं। इसी क्रम में सोशल मीडिया के जरिए सूचना मिली शास्त्री नगर स्थित मितल स्टोर पर ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर 95 हजार रुपए में बेचा जा रहा है। बकायदा पुलिस को एक मोबाइल नंबर भी दिया गया। वह नंबर एक महिला के नाम पर रजिस्ट्रर्ड मिला। जिस पते पर मोबाइल की सीम ली गई थी, उसी घर के नीचे दुकान है। उस मोबाइल को इस्तेमाल करने वाला लगातार अपनी लोकेशन बदल रहा था। आखिर में पुलिस ने 28 अप्रैल को शास्त्री नगर निवासी पवन मितल (34) को पकड़ लिया। इसके पास से दो ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर मशीन और दो अडॉप्टर भी बरामद हुए।

सराय रोहिल्ला थाना में मामला दर्ज

पवन मित्तल ने पूछताछ में बताया कोरोना संकट में ऑक्सीजन की किल्लत हो गई है। इस हालात का फायदा उठाते हुए उसने ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर को 90 हजार से 1.10 लाख कीमत पर बेचना शुरु कर दिया। उसने बताया यह मशीन वह हिमांशु से खरीद रहा था। हिमांशु सदर बाजार में ढिंगरा बैग के नाम से दुकान चलाता है। इसकी निशानदेही पर पुलिस ने दूसरे आरोपी हिमांशु खुराना को भी पकड़ लिया।

हिमांशु खुराना ने आगे बताया वह ये मशीन हिमांशु हांडा और आयुष हांडा से खरीदता है। ये डिस्ट्रीब्यूटर हैं। यह पता लगते ही पुलिस टीम ने इन दोनों को भी दबोच लिया, जिनके पास 168 ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर और 168 अडॉप्टर बरामद हुए। हांडा के पास से ऑडी कार और आयुष से मर्सिडीज कार भी बरामद की गई। पुलिस ने इन सभी के खिलाफ सराय रोहिल्ला थाने में मुकदमा दर्ज कर उन्हें अरेस्ट किया है।

क्या है ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर

ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर, सामान्य हवा से ऑक्सीजन तैयार करने वाली यह मशीन मरीजों के लिए किसी संजीवनी से कम नहीं। खासकर जिन अस्पतालों में ऑक्सीजन सपोर्ट की व्यवस्था नहीं है, वहां के लिए और होम आइसोलेशन वाले मरीजों के लिए यह मशीन एक बड़ा विकल्प है।

ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर दिखने में एक पोर्टेबल ट्रॉली की तरह हो सकता है, एक कंप्यूटर के आकार का हो सकता है या वाटर प्यूरिफायर की तरह दिख सकता है। कंपनियां इसे अलग-अलग मॉडल में तैयार करती हैं। यह एक तरह से पोर्टेबल मशीन होता है, जो घर या बाहर की सामान्य हवा से ऑक्सीजन जेनरेट करता है। ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर उन जगहों पर ज्यादा इस्तेमाल किए जाते हैं, जहां लिक्विड ऑक्सीजन या प्रेशराइज्ड ऑक्सीजन इस्तेमाल करने की सुविधा न हो या फिर ऐसा करना खतरनाक हो. जैसे, बहुत सारे छोटे अस्पतालों या नर्सिंग होम या छोटे क्लीनिक में. कोरोना के मामलों मेंं यह होम आइसोलेशन वाले मरीजों के लिए बहुत मददगार है।

खबरें और भी हैं...