• Hindi News
  • Local
  • Delhi ncr
  • Railways Is Planting Flowers On Both Sides Of The Tracks In Delhi Under The Beautification Scheme By 'Green Wire Mesh Fencing'

नई योजना:रेलवे दिल्ली में ट्रैकों के दोनों किनारे ‘ग्रीन वायर मैश फेंसिंग कर सौंदर्यीकरण योजना के तहत लगा रही है फूलों के पौधे’

नई दिल्लीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
दिल्ली मंडल रेलवे दिल्ली में ट्रैकों के दोनों किनारें इस तरह लगा रहा पौधे। - Dainik Bhaskar
दिल्ली मंडल रेलवे दिल्ली में ट्रैकों के दोनों किनारें इस तरह लगा रहा पौधे।
  • अब ट्रेनों से दिल्ली वालों को नहीं दिखेंगी बदरंग झुग्गियां, सुदंरता के साथ ट्रेनों को मिलेगी स्पीड

दिल्ली मंडल रेलवे दिल्ली में ट्रैकों के दोनों किनारें पर ‘ग्रीन वायर मैश फेंसिंग कर सौंदर्यीकरण योजना के तहत फूलों के पौधे’लगा रही है। अब ट्रेनों से दिल्ली वाले यात्रियों को भविष्य में बदरंग झुग्गियां नहीं दिखेगी। यात्रियों को दिल्ली में प्रवेश करते दोनों तरफ हरी बेल, गुलर और बोगनबेलियां के कई रंगों में चटक फूल दिखेंगे। सुदंरता के साथ ट्रेनों को स्पीड और यात्रियों को सुरक्षा मिलेगी।

यदि आप किसी दूसरे शहर राज्य से रेलगाड़ी के सहारे दिल्ली आ रहे हैं तो दिल्ली में घुसने के साथ ही आपको सुंदर नजारे देखने को मिलेंगे। रेलवे ने इसे लेकर खास तैयारी की है। दिल्ली मंडल दिल्ली के सभी लाइनों पर शुरुआत में करीब 40 किलोमीटर ट्रैक के आसपास के इलाके को इस खास योजना के मुताबिक ‘ग्रीन वायर मैश फेंसिंग कर सौंदर्यीकरण योजना के तहत फूलों के पौधे’लगा रही है जिसकी इस फेंसिंग की ऊंचाई रेल के ट्रैक की लेवल से करीब 2.5 मीटर ऊंची होगी।

ट्रैक पर कूड़ा और गंदगी फेंके जाने का खराब असर
दिल्ली मंडल से जुड़े एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि मौजूदा समय में ट्रैक पर कूड़ा फेंके जाने और आसपास के इलाके में अन्य गतिविधियों के चलते बाहर से आने वाले लोगों पर बहुत खराब असर पड़ता है। लोग राजधानी में प्रवेश के साथ ही इस तरह की चीजें देखते हैं तो इससे रेलवे की छवि को भी नुकसान पहुंचता है। इसी को देखते हुए इस योजना पर काम शुरू कर दिया गया है। इसके तहत नई दिल्ली से आदर्श नगर 12 किलोमीटर, नई दिल्ली से ओखला 10 किलोमीटर, और नई दिल्ली से साहिबाबाद 16 किलोमीटर ट्रक को कवर किया जा रहा है।

ट्रैकों के दोनों तरफ सौंदर्यीकरण के लिए ‘ग्रीन वायर मैश फेंसिंग’ का काम किया जा रहा है। मौजूदा समय में गूलर और बोगेनवेलिया के फूल यहां लगाए जा रहे हैं। इसमें ऐसे फूल और पौधे चुने जा रहे हैं जिनका रखरखाव कम है। एक तरफ जहां इससे सुंदरता बढ़ेगी तो ट्रैक के आसपास और ऊपर कूड़ा फेंकने वालों को भी रोक जा सकेगा। इस प्रोजेक्ट पर काम शुरू हो चुका है। इसे सीएसआर फंडिंग के तहत किया जा रहा है।
-डिंपी गर्ग, दिल्ली मंडल रेल प्रबंधक

खबरें और भी हैं...