• Hindi News
  • National
  • Replenishment In 6 Weeks By Heavy Rains; Now There Is A Decrease Of 4%, The Conditions Are Not Favorable For The Monsoon Departure, Due To The Weather System, Two More Rounds Of Rain Are Possible

15 में से 9 हफ्ते सूखे:भारी बारिश से 6 हफ्ते में भरपाई; अब 4% की कमी, अभी मानसून विदाई को अनुकूल स्थितियां नहीं, बरसात के दो और दौर संभव

नई दिल्लीएक महीने पहलेलेखक: अनिरुद्ध शर्मा
  • कॉपी लिंक
तस्वीर प्रयागराज के रामबाग रेलवे स्टेशन की, जहां बारिश से हुए जलभराव में रेलवे ट्रैक पानी में डूब गए हैं। - Dainik Bhaskar
तस्वीर प्रयागराज के रामबाग रेलवे स्टेशन की, जहां बारिश से हुए जलभराव में रेलवे ट्रैक पानी में डूब गए हैं।

देश में 3 जून को दस्तक देने के बाद शनिवार को मानसून के 108 दिन पूरे हो रहे हैं। मानसून के इन 15 हफ्तों में से 9 हफ्ते सूखे रहे। लेकिन 6 हफ्ते की ज्यादा बारिश ने कमी की भरपाई इस हद तक कर दी है कि अब देशभर में केवल 4% की कमी रह गई है। मौसम वैज्ञानिक आरके जेनामणि ने बताया कि शुक्रवार (17 सितंबर) को पश्चिमी राजस्थान के पोखरण से मानसून की विदाई की शुरुआत की सामान्य तारीख थी। लेकिन फिलहाल अगले दो हफ्ते तक मानसून की वापसी के लिए अनुकूल स्थितियां नहीं हैं।

अगले दो हफ्तों में कम से कम बारिश के दो दौर आ सकते हैं। मौसमी मॉडल संकेत दे रहे हैं कि बंगाल की खाड़ी में दो कम दबाव के क्षेत्र विकसित होकर ओडिशा और पश्चिम बंगाल से दाखिल होकर उत्तर-पश्चिमी दिशा में बढ़ेंगे। इसका असर गुजरात, महाराष्ट्र और राजस्थान तक होगा। आईएमडी के मुताबिक, जून के पहले 3 हफ्तों के बाद जुलाई में एक हफ्ते और फिर अब सितंबर में लगातार दो हफ्तों में सामान्य से अधिक बारिश हुई है। 15 सितंबर को मानसून के पूरे हुए 15 हफ्तों में 53% अधिक बारिश हुई है, जो इस मानसून में एक हफ्ते की सबसे ज्यादा बारिश है।

76 फीसदी जिलों में सामान्य या उससे ज्यादा बारिश हो चुकी
देश के 76% जिलों में सामान्य या उससे ज्यादा बारिश हो चुकी है। बीते 24 घंटे में यूपी के बाराबंकी में 176 मिमी, लखनऊ में 128 मिमी, हरदोई में 111 मिमी, कानपुर में 102 मिमी बारिश हुई। इसके अलावा धर्मशाला में 60 मिमी, चंडीगढ़ में 45 मिमी, गुरुदासपुर में 33 मिमी, दिल्ली में 12.9 मिमी और गुजरात के बड़ौदा में 49 मिमी बारिश दर्ज की गई।

15 साल में सिर्फ तीन बार ही 15 सितंबर से पहले लौटा मानसून
पिछले 15 साल में 12 बार मानसून के वापसी की शुरुआत 21 सितंबर के बाद ही हुई है। केवल 3 बार मानसून के वापसी 15 सितंबर के पहले हुई। आंकड़ों के मुताबिक, 2006 में 21 सितंबर से मानसून की वापसी शुरू हो गई थी। तब देश में 100% बारिश हो चुकी थी। 2013 में 9 सितंबर, 2015 में 4 सितंबर और 2016 में 15 सितंबर से मानसून की वापसी हुई थी।

अब आगे क्या: दो सर्कुलेशन बन रहे, 25 से 29 के बीच भारी बारिश के आसार
बंगाल की खाड़ी में म्यांमार तट के पास एक साइक्लोनिक सर्कुलेशन बना है। वह शनिवार को उत्तरी ओडिशा और पश्चिम बंगाल पहुंचेगा। फिर दो-तीन दिन में उत्तरी ओडिशा, झारखंड, उत्तरी छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश से होकर गुजरेगा। इस दौरान इन इलाकों में भारी बारिश होगी।

22 सितंबर तक समूचे उत्तर-पश्चिम व मध्य भारत में सामान्य से अधिक, पूर्वी व पूर्वोत्तर भारत में सामान्य और दक्षिणी प्रायद्वीप में सामान्य से कम बारिश होगी। 25 सितंबर को एक बार फिर बंगाल की खाड़ी में म्यांमार के तट पर बना साइक्लोनिक सर्कुलेशन ओडिशा से भारत में दाखिल होगा। यह समूचे पूर्वी और मध्य भारत में 25 से 29 सितंबर के दौरान भारी बारिश का दौर लेकर आएगा।

खबरें और भी हैं...