कोरोना फ्रंटलाइन वर्कर्स को सम्मानित:सत्येंद्र जैन ने कहा -कोरोना जैसी महामारी में लोगों की सेवा करना ही सबसे बड़ा धर्म

नई दिल्ली10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सीएम ने राकेश के परिजनों को एक करोड़ का चेक सौंपा - Dainik Bhaskar
सीएम ने राकेश के परिजनों को एक करोड़ का चेक सौंपा
  • दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री ने 80 कोरोना फ्रंटलाइन वर्कर्स को किया सम्मानित

दिल्ली के स्वास्थ्य ने कोरोना महामारी के दौरान उल्लेखनीय काम करने वाले बाबा साहेब डॉ. अंबेडकर अस्पताल और संजय गांधी मेमोरियल अस्पताल के 80 कोरोना फ्रंटलाइन वर्कर्स को सम्मानित किया। कोरोना योद्धाओं के सम्मान में आयोजित कार्यक्रम में दिल्ली विधानसभा के अध्यक्ष राम निवास गोयल, उप सभापति राखी बिड़लान और अन्य गणमान्य लोग मौजूद रहे।

इस दौरान स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने सभी कोरोना फ्रंटलाइन वर्कर्स को उनके त्याग के लिए उनकी प्रसंशा की और उन्हें धन्यवाद दिया। सत्येंद्र जैन ने कहा कि केजरीवाल सरकार द्वारा बनाए गए देश के सबसे बड़े कोरोना अस्पताल में अब तक 10 हजार से अधिक मरीज ठीक हो कर घर जा चुके हैं।

दिल्ली सरकार ने देश भर में सबसे पहले दिल्ली के अंदर कोविड-19 मरीजों की घर पर ही बेहतर देखभाल के लिए होम आइसोलेशन पद्धति शुरू की। दिल्ली सरकार द्वारा शुरू किए गए होम आइसोलेशन में रहने वाले मरीजों के लिए 15 मिनट के अंदर एंबुलेंस सुविधा मुहैया कराई गई।

गैर कोविड अस्पताल घोषित
संजय गांधी मेमोरियल अस्पताल को गैर कोविड अस्पताल घोषित कर दिया है, क्योंकि हमारे अन्य कोविड अस्पतालों में उपलब्ध बेड की तुलना में कोरोना मरीजों की संख्या काफी कम है। उन्होंने कहा कि 300 बेड वाले बुरारी अस्पताल में अब सिर्फ 10 से 12 मरीज ही हैं।

वहीं एलएनजेपी अस्पताल में जहां 300 बेड कोविड मरीजों के लिए निर्धारित किए गए हैं, वहां सिर्फ 20 मरीज हैं। राजीव गांधी मेमोरियल अस्पताल में निर्धारित किए गए 500 बेड में सिर्फ 10 से 11 बेड पर मरीज हैं।

सीएम ने राकेश के परिजनों को एक करोड़ का चेक सौंपा

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आज पूर्वी दिल्ली स्थित बाहुबली एन्क्लेव निवासी कोरोना योद्धा राकेश जैन के परिवार से मुलाकात एक करोड़ रुपए की सहायता राशि का चेक सौंपा। सीएम ने कहा कि राकेश जैन हिंदू राव अस्पताल में लैब टेक्नीशियन थे। वे आखिरी दम तक लोगों की सेवा करते रहे।

उन्होंने कहा कि किसी की जान की कीमत नहीं लगाई जा सकती, लेकिन मैं समझता हूं कि इस राशि से उनके परिवार को थोड़ी मदद मिलेगी। दिल्ली सरकार उनके बेटे को नौकरी भी देगी। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आज सुबह पूर्वी दिल्ली स्थित बाहुबली एन्क्लेव में रह रहे कोरोना योद्धा राकेश जैन के परिवार से मुलाकात की।

इस दौरान उन्होंने मीडिया से बातचीत में कहा कि स्व. राकेश जैन हिंदू राव अस्पताल में लैब टेक्नीशियन थे। लोगों की सेवा करते हुए उन्हें खुद भी कोरोना हो गया। उनकी तबीयत खराब होने पर मेट्रो अस्पताल में उन्हें भर्ती कराया गया था, लेकिन उन्हें बचाया नहीं जा सका और वे शहीद हो गए।

खबरें और भी हैं...