दिल्ली सरकार को निर्देश:हाईकोर्ट ने कहा -ऑक्सीजन के किल्लत से निपटने के लिए सेना के उपयोग पर विचार करें

नई दिल्ली6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • कोविड शवों को जलाने के लिए एंबुलेंस के बजाय डीटीसी के बसों का प्रयोग करे
  • सभी अस्पतालों को आक्सीजन रिफिलर व लिंक रिफिलर से जोड़ा जाएगा : सरकार

ऑक्सीजन मामले में चल रही सुनवाई में हाईकोर्ट ने ऑक्सीजन की सप्लाई के मामले पर कोर्ट की मदद करने के लिए वरिष्ठ वकील राजशेखर राव को एमिकस क्यूरी नियुक्ति किया है। जस्टिस विपिन सांघी की अध्यक्षता वाली बेंच ने आज दिल्ली सरकार को निर्देश दिया है कि ऑक्सीजन को लेकर दिल्ली में उत्पन्न हुई स्थिति संभालने के लिए सेना के उपयोग पर विचार करें।

इसके साथ हाईकोर्ट ने शवों का ट्रांसपोर्टेशन एंबुलेंस के बजाय डीटीसी के बसों से करने के आदेश दिए। हाईकोर्ट ने दिल्ली सरकार को निर्देश दिया कि एंबुलेंस से शवों का परिवहन नहीं करने पर विचार करें। इसके साथ ही कोर्ट ने कहा कि अस्पतालों की जरूरतों और उनकी बेड की क्षमता के मुताबिक, मेडिकल ऑक्सीजन का आवंटन किया गया है।

कोर्ट ने दिल्ली सरकार की रिपोर्ट पर गौर किया, जिसमें कहा गया है कि 48 अस्पताल लिक्विड ऑक्सीजन और बाकी अस्पताल सिलेंडर का इस्तेमाल करते हैं। सिलेंडर इस्तेमाल करने वाले अस्पतालों को, जो रिफिलर आवंटित किए गए हैं, उनसे वे ऑक्सीजन सिलेंडर लें।

ऑक्सीजन सप्लाई को लेकर दिल्ली हाईकोर्ट में बुधवार को सुनवाई के दौरान दिल्ली सरकार ने कहा कि हर अस्पताल को ऑक्सीजन रिफिलर व लिंक रिफिलर से जोड़ा जाएगा। जिससे एक की क्षमता खत्म होने पर दूसरा काम आ सके। दिल्ली सरकार ने कहा है कि इसके लिए हेल्पलाइन नंबर भी जारी करेगी और इस सिस्टम को अगले 24 से 48 घंटों में लागू करेगी।

खबरें और भी हैं...