आरोप / सिंचाई विभाग के अफसर ने कहा: पुलिस की मौजूदगी में बसाई थी रोहिंग्या बस्ती

X

  • सिंचाई विभाग के अफसर का खुलासा, मौके पर दिल्ली पुलिस नहीं की थी मदद
  • यूपी सिंचाई विभाग के अफसर ने तत्कालीन जैतपुर एसएचओ पर लगाए सनसनीखेज आरोप

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 05:00 AM IST

नई दिल्ली. (तोषी शर्मा) दक्षिण-पूर्वी दिल्ली के मदनपुर खादर में उत्तरप्रदेश सिंचाई विभाग की जमीन पर अवैध रोहिंग्याओं के कब्जे के लेकर बड़ा खुलासा हुआ है। ये खुलासा सिंचाई विभाग के एक अधिकारी ने तत्कालीन जैतपुर थाना प्रभारी को लेकर किया है। आगरा नहर विभाग के अधिकारी ने भास्कर से बातचीत में बताया कि किस तरह उस समय दिल्ली पुलिस ने रोहिंग्याओं को यूपी सिंचाई विभाग की जमीन पर अवैध तरीके से बसाने में मदद की थी।

अधिकारी ने दावा किया कि 15 अप्रैल 2018 को जब रोहिंग्याओं को विभाग की जमीन पर बसाए जाने की सूचना मिली थी। तब वे अपने अन्य अधिकारियों के साथ तुंरत मौके पर पहुंचकर अवैध बस्ती बसाने से रोकने की कोशिश की थी। विभाग के अफसर बाकायदा यहां बसाई जा रही झुग्गियों के आसपास रास्ता बंद करने की कोशिश की थी। लेकिन उस समय तत्कालीन जैतपुर थाना प्रभारी संजय कुमार सिन्हा ने अफसरों को यह कहते हुए धमकाया था। कि आपकी हिम्मत कैसे हुई। ऐसे कब्जा हटाने की। ये तो पुलिस का काम है आप कानून को कैसे हाथ में ले सकते हैं। आप एफआईआर करवा सकते हैं कब्जा हटवाना तो पुलिस का काम है।

गौरतलब है कि नए परिसीमन के बाद साल 2019 में नया पुलिस थाना कालिंदी कुंज बन गया था। और तत्कालीन जैतपुर थाना प्रभारी सिन्हा वर्तमान में कालिंदी कुंज थाना के प्रभारी हैं।
एसएचओ ने किया था कब्जा हटवाने का वादा: सिंचाई विभाग के अफसर 
उत्तरप्रदेश सिंचाई विभाग के अधिकारी ने बताया कि जिस दिन खसरा नंबर 612 वाली उनकी जमीन पर रोहिंग्याओं को बसाया जा रहा था। तो उन्होंने इसका विरोध किया था। लेकिन पुलिस ने उन्हें सहयोग करने के बजाय रोहिंग्याओं को मानवीय आधार पर वहां बसाने की पैरवी की थी। 15 अप्रैल 2018 को वे अपने एक्सईएन केपी सिंह के साथ मौके पर गए थे। वहीं दिल्ली प्रशासन से एसडीएम सौरव शर्मा, तहसीलदार महेंद्रसिंह समेत कई बड़े अधिकारी मौके पर मौजूद थे। इस दौरान एसएचओ संजय सिन्हा ने उनसे वादा किया था कि वे सात दिन में रोहिंग्याओं से कब्जा खाली करवा देंगे। लेकिन 2 साल बाद भी उनकी जमीन पर पुलिस का सहयोग नहीं मिलने के कारण अवैध रोहिंग्याओं का कब्जा है। 
रोहिंग्याओं के अवैध कब्जा को लेकर भास्कर के खुलासे के बाद केस दर्ज 
हेडवर्क खंड आगरा नहर के एसडीओ एनपी सिंह ने बताया कि कालिंदी कुंज थाना पुलिस ने 18 अप्रैल 2020 को केस दर्ज कर लिया है। इससे पहले भी विभाग की जमीन पर कब्जे को लेकर शिकायतें दी जा चुकी है। गौरतलब है कि मदनपुर खादर में यूपी सिंचाई विभाग की जमीन पर रोहिंग्याओं के अवैध कब्जे को लेकर दैनिक भास्कर ने 17 अप्रैल 2020 को खुलासा किया था।
पुलिस को कई बार लिखा, लेकिन हमेशा कोई ना कोई बहाना बनाया: सिंचाई विभाग
उत्तरप्रदेश सिंचाई विभाग के हेडवर्क खंड आगरा नहर के अधिकारी ने विभाग की जमीन से अवैध रोहिंग्याओं से कब्जा खाली करवाने के लिए पुलिस को सैकड़ों बार पत्र और रिमांइडर लिखने का दावा किया है। अधिकारी ने कहा कि हमने कई बार पत्र लिखकर पुलिस से सहयोग मांगा। लेकिन पुलिस ने हर बार कोई ना कोई बहाना बनाकर उनके पत्र को अनदेखा किया।

उन्होंने कहा कि  कई बार रिमांइडर भेजे। यहां तक की हर 15 दिन में पत्र और रिमांइडर लिखने के साथ-साथ वह व्यक्तिगत भी पुलिस अफसरों से मिलते रहे हैं। जब भी उन्हें कब्जा खाली करवाने के लिए मदद मांगते हैं। तो पुलिस अफसर हर बार कोई ना कोई नया बहाना बनाने लगते हैं। दिल्ली पुलिस से कोई रिस्पांस नहीं मिला। ऐसे में अवैध कब्जा कर रहे लोगों को हौंसला बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि हमने प्रदेश के सिंचाई मंत्री को भी इस बारे में पूरा ब्यौरा बनाकर लखनऊ भेज दिया है। ताकि सरकार गृहमंत्रालय को लिखकर दिल्ली पुलिस का सहयोग जमीन से कब्जा हटाने के लिया जा सके। 
कालिंदी कुंज एसएचओ सिन्हा बोले, लगाने दीजिए आरोप 
यूपी सिंचाई विभाग के अधिकारियों के आरोपों को लेकर जब कालिंदी कुंज थाना एसएचओ संजय कुमार सिन्हा से पक्ष जानना चाहा तो उन्होंने इस बारे में उच्चाधिकारियों से बात करने को कहा। लेकिन जब उन्हें सिंचाई विभाग के अधिकारी के व्यक्तिगत आरोप लगाने के बारे में कहा तो बोले, आरोप लगाने दो। दिल्ली पुलिस क्या पूरे देश को पता है कि यहां रोहिंग्या रह रहे हैं। 
हमें दिल्ली पुलिस का सहयोग नहीं मिल रहा है, हम चाहते हैं कि दिल्ली पुलिस का सहयोग मिले है ताकि हम जल्द अपनी जमीन से रोहिंग्याओं से कब्जा खाली करवाएं। 
एनपी सिंह, एसडीओे, आगरा नहर, ओखला

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना