पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

राजधानी में दाह संस्कार के लिए कम पड रही लकड़िया:दिल्ली में शवों को जलाने के लिए श्मशान घाटों पर लकड़ी की किल्लत, हरियाणा से मंगवाई जा रहीं लकड़ियां

नई दिल्ली5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

दिल्ली में कोरोना के कारण होने वाली बेतहाशा मौत के कारण शवों को जलाने के लिए श्मशान घाटों में लकड़ियां कम पड़ रही है। हालात यह है कि दिल्ली में अब शवों को जलाने के लिए हरियाणा से लकड़ियां मंगवाई जा रहीं है, जिससे आने वाले समय में शवों का संस्कार किया जा सके। पूर्वी दिल्ली नगर निगम की ओर से गत दिनों जहां उपलों से दाह संस्कार करने की अनुमति दी गई थी।

वहीं अब साउथ दिल्ली नगर निगम ने भी अपने श्मशान घाट में दाह संस्कार के दौरान लकड़ी की किल्लत को भी दूर करने के लिए शवों को उपलों से जलाने के लिए इजाजत दी है। हालांकि साउथ एमसीडी की ओर से अवगत कराया गया है कि श्मशान घाटों में लकड़ी की पर्याप्त मात्रा में उपलब्धता है।

साउथ एमसीडी की मेयर अनामिका ने बताया कि दिल्ली में कोरोना संक्रमण के कारण बढ़ती मौतों के मद्देनजर साउथ निगम अपने सभी श्मशान घाटों अतिरिक्त प्रबंध कर रहा है। उन्होंने बताया कि हमारे पास 10,000 क्विंटल से अधिक लकड़ियों का स्टॉक उपलब्ध है।

हरियाणा के वन विभाग से लगभग 3,500 क्विंटल प्राप्त की गई है और दिल्ली के अन्य स्थानों से भी लकड़ियां मंगाई जा रही है। मेयर ने यह आश्वस्त किया कि किसी भी स्थिति में अंतिम संस्कार के लिए लकड़ियों की कमी नहीं होने दी जाएगी। उन्होंने कहा कि इस मुश्किल घड़ी में हम दिल्ली की जनता के साथ हैं और उनकी सुविधा के लिए हर संभव प्रयास किया जा रहा है।

खबरें और भी हैं...