पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Gujarat
  • 1062 Deaths In July In Kovid Dedicated Civil, 180 Told From Corona, 882 Deaths Were Hidden

सिविल का सस्पेंस:कोविड डेडिकेटेड सिविल में जुलाई में 1062 मौतें, कोरोना से बताई 180 ही, 882 मौतों को छुपा गए

सूरत16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • मई से अगस्त तक सिर्फ कोरोना का इलाज, 2099 मौतों में से 450 को ही जोड़ा कोरोना से
  • बाकी शवों का भी कोरोना प्रोटोकॉल से ही अंतिम संस्कार, लेकिन पॉजिटिव नहीं मान रहे

(सूर्यकांत तिवारी) वैसे तो कोरोना महामारी की वजह से 2020 का साल ही बुरा बीत रहा है, लेकिन जुलाई का महीना तो और भी बुरा बीता है। इस महीने में 1062 लोगों ने जान गंवाई है। यह आंकड़ा अकेले सिविल अस्पताल का है। आंकड़ा इस लिहाज से डराने वाला है कि पिछले साल (2019) में इसी महीने में यहां सिर्फ 297 मरीजों की मौत हुई थी। यानी इस जुलाई में 765 मौतें ज्यादा हुईं।

अब सस्पेंस यह है इस जुलाई में हुईं 1062 में से कोरोना की वजह से सिर्फ 180 मौतें बताई गईं, तो बाकी 882 मौतों वाले मरीज कौन थे और उनकी बीमारी क्या थी? क्योंकि जुलाई ही नहीं इस साल मई से अगस्त के अंतिम हफ्ते तक सिविल में सिर्फ कोरोना मरीजों को ही भर्ती कर इलाज दिया जा रहा था और अन्य बीमारियों का इलाज बंद था। भले ही मनपा और जिला स्वास्थ्य विभाग कोरोना से हुई मौतों की संख्या 870 बता रहे हों, लेकिन मई से अगस्त के अंतिम सप्ताह तक सिर्फ सिविल अस्पताल में ही 2099 मौतें हुईं। हालांकि इनमें से कोरोना से सिर्फ 450 माैतें बताई गईं। पिछले साल यानी मई 2019 से अगस्त 2019 तक सिविल अस्पताल में 1151 मरीजों की मौतें हुई थीं।

ये मौतें मेडिसिन, ऑर्थो, सर्जरी, गायनिक, पीडियाट्रिक, आंख, ईएनटी, मानसिक, स्किन, ट्रॉमा, बर्न जैसे विभागों में भर्ती मरीजों की थीं। इस साल मई से अगस्त तक की बात करें तो सिविल अस्पताल में 2099 मौतें हुई है। उस समय केवल मेडिसिन विभाग ही चालू था।

अभी भी रोज 10 से 12 शवों का अंतिम संस्कार हो रहा है
एकता ट्रस्ट ने करीब 2500 शवों का कोरोना प्रोटोकॉल के तहत अंतिम संस्कार किया। एकता ट्रस्ट के अब्दुल रहमान मलबारी बताते हैं कि जिन शवों का कोरोना प्रोटोकाॅल के तहत अंतिम संस्कार किया गया, उनमें कोरोना पाॅजिटिव, संदिग्ध शामिल थे। अभी हर दिन ऐसे ही 10 से 12 शवों का अंतिम संस्कार किया जा रहा है।

जुलाई में हर दिन 35 मौतें हुईं
सिविल अस्पताल में इस साल के जुलाई में हर दिन 35 मौत हुई। जबकि पूरे शहर में कोरोना से औसतन 12 मौतें हो रही थीं। अन्य मौतों को डॉक्टर संदिग्ध बताते थे। जांच से पहले मौत हो जाने पर मरीजों की कोरोना जांच नहीं हुई। हालांकि शव का अंतिम संस्कार कोरोना प्रोटोकॉल के तहत ही किया गया है। कई मौके तो ऐसे आए जब अंतिम संस्कार के लिए इंतजार करना पड़ा।

सिर्फ कोरोना से मौत बता रहे
अब तक सूरत में 23 हजार से ज्यादा कोरोना पॉजिटिव केस आ चुके हैं। इनमें से 20 हजार से ज्यादा मरीज रिकवर हो चुके हैं, जबकि 870 की मौत बताई जा रही है। अभी सिर्फ कोरोना से हुई मौतों का उल्लेख किया जा रहा है। अन्य बीमारियों से कितनी मौतें रोज हो रही हैं, इस बारे में ना तो मनपा बता रही है, ना जिला स्वास्थ्य विभाग कोई आंकड़ा जारी कर रहा है।

किडनी, डायबिटीज, हाइपरटेंशन, ब्लड कैंसर और ब्रेन ट्यूमर वाले मरीजों को कोरोना में ही गिना। कई की निगेटिव रिपोर्ट आई। सभी का प्रोटोकॉल से अंतिम संस्कार हुआ। -डॉ. अश्विन वसावा, नोडल अधिकारी, सिविल अस्पताल

6 जुलाई को मैं चार्ज पर आई। कुछ ही दिन में मुझे क्वॉरेंटाइन होना पड़ा। उस समय कोरोना के मामले सबसे ज्यादा आ रहे थे। कोमोरबिड मरीज भी बढ़ गए थे।
-डॉ. रागनी वर्मा, इंचार्ज अधीक्षक, सिविल अस्पताल

धन्वंतरि रथ बच्चों को बांट रहा था एक्सपायरी दवाई, लोगों ने पकड़ा तो डाॅक्टर भाग निकले

पूणा में रविवार को धन्वंतरि रथ से बच्चों को फोलिक एसिड एंड फेरस सल्फेट टैबलेट्स आईपी (आईएफए स्माल) का वितरण किया जा रहा था। यह दवा अहमदाबाद के डीप फाॅर्मा कंपनी से बनी है। इसकी मैन्युफैक्चरिंग डेट सितंबर 2018 और एक्सपायरी डेट अगस्त 2020 थी।

सीता नगर सोसाइटी के प्रमुख राजू भाई जीरावला ने बताया कि सुबह 10.30 बजे के करीब धन्वंतरि रथ आया। मैंने अपने 3 साल के बेटे को दिखाया तो पता चला आयरन की कमी है। उसे 70 दिन की दवा दी। दवा एक्सपायरी थी। मैंने तुरंत सुरेश सुहागिया और पार्षद दिनेश सवालिया को बताया। डॉक्टर रथ छोड़कर भाग गए। बाद में दोनों के प्रयास से मनपा हेल्थ कमिश्नर डॉ. आशीष नायक आए और दवा लेकर चले गए।

क्राॅस चेक में सिर्फ एक ही दवा एक्सपायरी मिली
^हमारे 121 धन्वंतरि रथ शहर में काम कर रहे हैं। इस मामले की जानकारी मिलते ही हमने क्राॅस चेक किया। इसमें सिर्फ एक ही दवा फोलिक एसिड एक्सपायरी मिली। लापरवाही बरतने वाले कर्मचारी और डॉक्टर पर कार्रवाई की जाएगी।
-डॉ. आशीष नायक, हेल्थ कमिश्नर, महानगर पालिका

259 नए संक्रमित, 251 डिस्चार्ज, चार की मौत
रविवार को 259 नए संक्रमित मिले। इनमें शहर के 153 और जिले के 106 मरीज हैं। अब तक 24370 पाॅजिटिव केस आ चुके हैं। 4 मरीजों की इलाज के दौरान मौत हो गई। अब मौत का आंकड़ा 870 हो गया है। 251 मरीज डिस्चार्ज हुए। इनमें शहर के 163 और जिले के 88 मरीज हैं। अब तक 21017 मरीज ठीक होकर घर जा चुके हैं। शहर और जिले को मिलाकर अभी 2483 एक्टिव मरीज हैं, जिनका इलाज चल रहा है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- अगर आप कुछ समय से स्थान परिवर्तन की योजना बना रहे हैं या किसी प्रॉपर्टी से संबंधित कार्य करने से पहले उस पर दोबारा विचार विमर्श कर लें। आपको अवश्य ही सफलता प्राप्त होगी। संतान की तरफ से भी को...

और पढ़ें