जज्बे को सलाम / हमेशा ऑन ड्यूटी रहने वाले 108 कर्मी कहते हैं-मरीज कैसा भी हो, हम उसे अस्पताल पहुंचाते हैं

हमेशा ऑन ड्यूटी रहने वाली 108 की टीम हमेशा ऑन ड्यूटी रहने वाली 108 की टीम
X
हमेशा ऑन ड्यूटी रहने वाली 108 की टीमहमेशा ऑन ड्यूटी रहने वाली 108 की टीम

  • सच्चे राष्ट्रभक्त बनकर जीवन को खतरे में डालते हैं
  • 108 स्टॉफ के पास जाने से डरो मत, उन्हें सपोर्ट करो

दैनिक भास्कर

Mar 27, 2020, 12:12 PM IST

अनिरूद्ध सिंह मकवाणा, अहमदाबाद. राज्य का कोई भी शहर हो या फिर गांव, काेरोनावायरस का कैसा भी पेशेंट हो या फिर विदेश से आए व्यक्ति को क्वारेंटाइन करना हो, तो लोग 104 को फोन करते हैं। वो फोन हम ही रिसीव करते हैं। फिर चाहे मरीज कैसा भी हो, हम उसे अस्पताल पहुंचाकर ही दम लेते हैं। इस तरह से हम हमेशा ऑन ड्यूटी रहकर हम इस समय देश के साथ खड़े हैं।


24 घंटे ऑन ड्यूटी
ये कहना है कि चिराग भाई का, जो अपनी ड्यूटी को सर्वोपरि मानते हैं। इस समय वे मेघाणीनगर में ईएमटी के रूप में 21 मार्च से कोरोना पेशेंट के लिए काम कर रहे हैं। उनके साथ 60 लोग हैं, जो सब कुछ भूलकर 24 घंटे काम पर लगे हैं। सभी अपने जीवन को खतरे में डालकर लगातार काम कर रहे हैं।


पेशेंट को अस्पताल पहुंचाना हमारा पहला कर्तव्य
108 टीम के एक सदस्य ने भास्कर को बताया-हमारे सामने जो भी पेशेंट आता है, तब हम यह नहीं देखते हैं कि वह कोरोना का सस्पेक्ट है या पॉजीटिव। हमारी नैतिक जिम्मेदारी होती है, उसे अस्पताल पहुंचाना। तमाम खतरे उठाकर हम उसे अस्पताल पहुुंचाते हैं। हमें कॉल मिलता है, तो हम सीधे स्पॉट पर पहुंचते हैं। कोरोना के लिए काम करने वाला अधिकांश स्टाफ पीजी में रहता है। हमें ऑन ड्यूटी फूड पैकेट्स मिलते हैं, जब भी समय मिला, खा लेते हैँ। लोगों की सेवा करना हमारा पहला कर्तव्य है। हमें यह काम करना अच्छा लगता है। पर कई बार लोग हमसे बहस करते हैं। हमें दुत्कारते हैं। तब हमें अच्छा नहीं लगता। हम चाहते हैं कि लोग हमारा सपोर्ट करें। कई बार हमें भोजन करने का भी समय नहीं मिलता, यदि लोग हमें चाय-नाश्ता या भोजन भी दे दें, तो हमें अच्छा लगेगा। हम आपके लिए हैं। आपकी सेवा के लिए हमेशा तत्पर रहते हैं, इतनी तो प्रार्थना आपसे कर ही सकते हैँ।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना