• Hindi News
  • Local
  • Gujarat
  • 25 Lakh Liters Of Petrol Sold Without GST Number, Tax Collected From People, But Not Deposited

धोखाधड़ी:बिना जीएसटी नंबर के ही 25 लाख लीटर पेट्रोल बेचा, लोगों से टैक्स वसूला, पर जमा नहीं कराए

सूरत2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • जीएसटी ने 50 करोड़ की डिमांड निकाली, जुर्माना और ब्याज के साथ वसूलेगा

वैट कानून के पुराने नंबर को जारी रखते हुए जीएसटी में ट्रांसफर किए बगैर पेट्रोल बेचने वालों के खिलाफ एसजीएसटी विभाग ने कार्रवाई शुरू की है। शहर और जिले में कुल 13 पेट्रोल पंप पर छापेमारी की गई थी। बरामद किए गए दस्तावेजों से अधिकारियों को पता चला है कि कई पंप मालिक तो तीन साल से बिना नंबर के ही कारोबार कर रहे थे।

इस दौरान 25 लाख लीटर पेट्रोल बेचकर वाहन चालकों से टैक्स वसूले और यह रकम सरकार के खाते में जमा नहीं करवाई। जीएसटी ने 50 करोड़ की डिमांड निकाली है। आने वाले दिनों में यह बढ़कर 70 करोड़ से भी अधिक हो सकती है।

जीएसटी लागू हुए चार साल बीत चुके हैं
पेट्रोल की कीमतें 100 रुपए प्रतिलीटर पर पहुंचने से लोगों की कमर टूट गई है। कुछ पेट्रोल पंप मालिक गड़बड़ी करने से बाज नहीं आ रहे हैं। जीएसटी लागू होने के चार साल बीतने के बाद भी नंबर नहीं लिए थे। पेट्रोल पंप मालिक जितना पेट्रोल बेचते थे, उस पर कोई टैक्स नहीं चुकाते थे। लोगों से टैक्स तो वसूल लेते थे, पर विभाग में जमा नहीं करते थे। इसलिए विभाग ने नंबर भी बंद कर दिया था।

13 में से 8 पंप मालिकों के पास जीएसटी नंबर ही नहीं है: शहर-ग्रामीण में कुल 13 पेट्रोल पंप मालिकों की जांच की गई, जिसमें से 8 के पास तो जीएसटी नंबर भी नहीं है। पांच के पास नंबर थे, पर वे समय पर टैक्स नहीं चुका रहे थे। इन पंप मालिकों के पास से 39 लाख की डिमांड निकाली गई थी। अधिकारियों ने मौके पर ही 15 लाख रुपए की वसूली की।

अभी कई पंप मालिक निशाने पर हैं: एसजीएसटी विभाग के सूत्रों ने बताया कि अभी भी कई पेट्रोल पंप मालिक ऐसे हैं, जिन्होंने रिटर्न नहीं भरा है। इन मालिकों के यहां जांच हो सकती है।

कुल 210 करोड़ से अधिक पेट्रोल-डीजल की बिक्री: सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार पिछले 3-4 वर्ष से टैक्स नहीं चुकाया गया है। मौजूदा समय में पेट्रोल की कीमत 98 रुपए से अधिक है। औसतन 80 रुपए कीमत मानें तो भी पेट्रोल-डीजल की बिक्री 210 करोड़ रुपए है। पेट्रोल-डीजल पर 24 और सीएनजी पर 15% टैक्स है।

आईटीसी भी चली गई: जिन पंप मालिकों ने जीएसटी नंबर नहीं लिया है उनकी आईटीसी भी चली गई है। आईटीसी लेने के लिए सबसे पहले जीएसटी नंबर की अपील की करनी होगी। नंबर आने के बाद ही आईटीसी की क्लेम कर सकेंगे।

खबरें और भी हैं...