पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

संभावित तीसरी लहर को वर्कशॉप:55 नर्सिंग स्टाफ व 25 छात्रों को तीसरी लहर में बच्चों के इलाज के तरीके बताए गए

सूरत19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • बच्चों को बचाने के लिए सिविल अस्पताल में की गई वर्कशॉप

कोरोना की संभावित तीसरी लहर में बच्चों पर होने वाले असर को ध्यान में रखते हुए सिविल अस्पताल में शनिवार को वर्कशॉप आयोजित की गई। यह वर्कशॉप पीडियाट्रिक आस्पेक्ट ऑफ द कोविड मैनेजमेंट विषय पर नर्सिंग एसोसिएशन द्वारा नर्सिंग स्टॉफ और नर्सिंग स्टूडेंट को प्रशिक्षण देने के लिए की गई।

वर्कशॉप में बताया गया कि सिविल अस्पताल प्रबंधन ने तैयारी पूरी कर ली है। बालरोग विभाग के अध्यक्ष डॉ. विजय शाह ने बच्चे कोरोना से प्रभावित हों तो उसका मैनेजमेंट, डायग्नोसिस, इंटेसिव ट्रीटमेंट, वयस्क मरीजों के लिए वेंटिलेटर की तुलना में बच्चों के लिए वेटिंलेटर के उपयोग पर प्रजेंटेशन दिया। उनके अलावा शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ. सुजीत चौधरी, डॉ. प्रफुल सहित अन्य डॉक्टरों ने बच्चों को कोरोना से बचाने के लिए उपचार के बारे में नर्सिंग स्टाफ को जानकारी दी।

बाल रोग विशेषज्ञों ने वेंटिलेटर के साथ देखभाल के उपाय भी बताए

वर्कशॉप में सिविल अस्पताल के 55 नर्सिंग स्टाफ, 25 नर्सिंग स्टूडेंट तथा नर्सिंग कॉलेज के प्रिंसिपल, फैकल्टी ने भाग लिया। सुपरिंटेंडेंट डॉ. रागिनी वर्मा, नर्सिंग कॉलेज की प्रिंसिपल डॉ. इंद्रावती राव, डीन डॉ. ऋतंभरा मेहता, नर्सिंग काउंसिल के उपप्रमुख इकबाल कड़ीवाला, टीएनएआई के सेक्रेटरी किरण दोमडिया आदि ने भी अपनी बात रखी।

खबरें और भी हैं...