पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Gujarat
  • After 72 Days Minimum 4538 Vaccines Were Given, Only 3.95 Lakh Doses Came In 16 Days, Less Than 3000 Were Being Received In Two Days.

लोग बढ़े तो टीके घट गए:72 दिन बाद सबसे कम 4538 टीके लगे, 16 दिनों में 3.95 लाख डोज ही आए, दो दिन से तो 3000 से भी कम मिल रहे

सूरतएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
टीका लगवाने के लिए पालनपुर सेंटर पर लोगों की लंबी कतार दिखी। इनमें से कुछ को टीका लग पाया तो कुछ को बिना वैक्सीन ही वापस लौटना पड़ा। फोटो: रितेश पटेल - Dainik Bhaskar
टीका लगवाने के लिए पालनपुर सेंटर पर लोगों की लंबी कतार दिखी। इनमें से कुछ को टीका लग पाया तो कुछ को बिना वैक्सीन ही वापस लौटना पड़ा। फोटो: रितेश पटेल
  • वैक्सीन भले कम पड़े पर प्रचार में कोई कमी नहीं
  • केंद्र 233 से घटा 40 कर दिए, ये कैसी तीसरी लहर की तैयारी
  • दो दिनों में सरकार की तरफ से मनपा को 5820 डोज ही मिले

पहले लोग कोरोना की वैक्सीन लगवाने नहीं आ रहे थे, अब आने लगे तो सरकार का वैक्सीन महाअभियान फेल हो गया। कारण मनपा के पास वैक्सीन ही नहीं है। स्थिति यह है कि मंगलवार को एक भी डोज नहीं बचा। रीजनल वैक्सीन स्टोरेज सेंटर भी खाली हो चुका है। इससे बुधवार को लोगों को टीके नहीं लग पाएंगे।

गुरुवार को भी वैक्सीन लगाने पर असमंजस है। मंगलवार को 4538 टीके ही लग पाए। यह 72 दिनों में पहला मौका था जब एक दिन में इतने कम टीके लगे। इससे पहले सबसे कम 2582 टीके 25 अप्रैल को लगे थे। सरकार ने 21 जून को वैक्सीन महाअभियान शुरू किया था।

तब से 6 जुलाई तक महानगर पालिका को वैक्सीन के 395120 डोज मिले, जबकि 435003 लोगों को टीके लगाए गए यानी कि मिले डोज से 39883 ज्यादा टीके लगाए गए। ये जो अधिक टीके लगे उन्हें महानगर पालिका ने अपने पास बचे स्टाॅक से लोगों को लगाए हैं।

मनपा ने केंद्र भी घटा दिए, डोज भी घटा दिए फिर कैसे लोगों को मिलेगी वैक्सीन

वैक्सीन की इतनी कमी है कि मनपा को पिछले दो दिन से 3000 डोज से ज्यादा नहीं मिल पा रहे हैं। सोमवार को 3000 डोज, जबकि मंगलवार को 2820 डोज ही मिले। इसकी वजह से 4538 टीके ही लग पाए। मंगलवार को 3205 कोविशील्ड, 632 कोवैक्सीन, 45 स्पूतनिक के टीके लगे।

701 टीके निजी अस्पतालों में लगे। 16 जनवरी 2021 से टीकाकरण की शुरुआत की गई थी। शुरू में सूरत ने एक दिन में 57 हजार से ज्यादा टीके लगाने का राज्यभर में रिकाॅर्ड बनाया था, लेकिन उसके बाद कभी 50 हजार तक भी नहीं पहुंच पाया। धीरे-धीरे प्रतिदिन टीके लगाने की रफ्तार घटती गई।

सैकड़ों लोगों को बिना वैक्सीन के निराश लौटना पड़ रहा है

टीका लगाने के लिए लोग केंद्रों पर उमड़ रहे हैं। सुबह 5 बजे से ही कतार में लग जा रहे हैं, लेकिन सैकड़ों लोगों को बिना टीका वापस लाैटना पड़ रहा है। दिनभर कतार में खड़े रहने के बाद कह दिया जाता है कि वैक्सीन खत्म हो गई है।

लोगों की भीड़ और वैक्सीन की कमी के कारण मनपा ने अब एक दिन एडवांस टोकन देना शुरू कर दिया है। पिछले एक सप्ताह से वैक्सीनेशन सेंटरों के मुख्य गेट पर पर सुबह 10 बजे ही बोर्ड लगा दिया जाता था- आज का टोकन खत्म हो चुका है।

अब तक 14.57 फीसदी लोगों को ही लग पाए दोनों डोज

शहर में अब तक 14.57 फीसदी लोगों को टीके लग चुके हैं। शहर के 32 लाख लोगों को टीका लगाने के लिए तय किया गया है। इनमें से अभी तक 2184603 लोगों को वैक्सीन लगी है। इनमें से 1718137 लोग पहला और 466466 लोग वैक्सीन का दूसरा डोज लगवा चुके हैं।

वैक्सीन की उपलब्धता के अनुसार मनपा टीकाकरण केंद्रों की संख्या में घट-बढ़ करती रही है। टीकाकरण महाअभियान जब 21 जून को शुरू किया गया था। उसके बाद 21,22 और 23 जून को टीकाकरण केंद्रों की संख्या 233 तक की गई थी। 29 जून को 102 कर दी गई। सोमवार को 172 केंद्र थे, लेकिन मंगलवार को 40 केंद्रों पर ही टीके लगे।

रीजनल वैक्सीन स्टोरेज सेंटर खाली आज के लिए एक भी डोज नहीं बची

सिविल अस्पताल के कैंपस में स्थित रीजनल वैक्सीन स्टोरेज सेंटर पर भी वैक्सीन पूरी तरह खत्म हो चुकी है। सूत्रों का कहना है कि एक भी डोज नहीं बचा है। बुधवार को वैक्सीन का स्टॉक आएगा या नहीं इसकी कोई सूचना नहीं है।

16 दिनों में चार बार बदला प्लान

  • 29 जून वैक्सीन सेंटरों की संख्या 102 कर प्रति केंद्र 275 टीके लगाने को कहा गया।
  • 01 जुलाई सेंटरों की संख्या 162 की गई। प्रति केंद्र डोज की संख्या 100 कर दी गई। इसके साथ ही पहले व दूसरे टीके के सेंटर अलग-अलग कर दिए।
  • 02 जुलाई मनपा ने प्रति सेंटर टीके की संख्या 100 से बढ़ाकर 175 कर दी।
  • 05 जुलाई वैक्सीन केंद्रों की संख्या 40 और प्रति सेंटर टीके की संख्या 75 कर दी गई।

रीजनल वैक्सीन स्टोरेज सेंटर खाली आज के लिए एक भी डोज नहीं बची

सिविल अस्पताल के कैंपस में स्थित रीजनल वैक्सीन स्टोरेज सेंटर पर भी वैक्सीन पूरी तरह खत्म हो चुकी है। सूत्रों का कहना है कि एक भी डोज नहीं बचा है। बुधवार को वैक्सीन का स्टॉक आएगा या नहीं इसकी कोई सूचना नहीं है।

हमें भी रात 8 बजे पता चलता है कि सुबह कितने लोगों को टीके लगाने हैं

जितने लोगों को वैक्सीन लग रही है, उतने ही टीके उपलब्ध कराए जा रहे हैं। हमें भी रात 8 बजे पता चलता है कि सुबह कितने लोगों को वैक्सीन देनी है।- डाॅ. रिकिता पटेल, स्वास्थ्य अधिकारी, मनपा

खबरें और भी हैं...