• Hindi News
  • Local
  • Gujarat
  • After Becoming Regular, 100% Daily Occupancy Of Surat Mahuva Train, Dependence On Private Buses Decreased

रेलवे:रेगुलर होने के बाद सूरत-महुवा ट्रेन की रोजाना 100% ऑक्युपेंसी, निजी बसों पर निर्भरता घटी

सूरत4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पहले ट्रेन हफ्ते में केवल एक दिन चलती थी, अब 50 बसों की फ्रीक्वेंसी कम। - Dainik Bhaskar
पहले ट्रेन हफ्ते में केवल एक दिन चलती थी, अब 50 बसों की फ्रीक्वेंसी कम।

सूरत से महुवा के बीच चलने वाली ट्रेन का आखिरकार 12 साल बाद 20 अगस्त से नियमित रूप से संचालन शुरू हुआ। सांसद दर्शना जरदोष के रेल राज्य मंत्री बनने के डेढ़ महीने में यह ट्रेन रेगुलर हो गई। अब इस ट्रेन में रोजाना सौराष्ट्र जाने वालों की 100% से ज्यादा ऑक्युपेंसी मिलने लगी है। यानि प्रत्येक ट्रिप में सभी श्रेणी के कोच पैक्ड जा रहे हैं।

इस ट्रेन के नियमित होने से सूरत से रात के समय सौराष्ट्र जाने वाली लगभग 150 बसों की मनमानी पर लगाम लग गया है। यात्रियों की बसों पर निर्भरता भी कम हो गई है। यही नहीं बल्कि रोजाना 50 बसों की फ्रीक्वेंसी भी कम हो गई है। उल्लेखनीय है कि पहले जब ये ट्रेन हफ्ते में केवल एक दिन चलती थी, तब रोजाना 150 से ज्यादा निजी बसें सौराष्ट्र की ओर जाती थीं।

यह ट्रेन हफ्ते में पांच दिन सोम, मंगल, गुरु, शनि और रवि को रवाना होती है। जबकि बुध और शुक्रवार को बांद्रा-महुवा एक्सप्रेस सूरत होते हुए चल रही है। इस तरह से यात्रियों को अब महुवा के लिए रोजाना ट्रेन मिल रही है। यह ट्रेन सूरत से अपने निर्धारित दिनों पर रात 10 बजे रवाना होकर अगले दिन सुबह 9.05 बजे महुवा पहुंचती है। जबकि महुवा से शाम 7:35 बजे रवाना होकर सूरत सुबह 6:35 बजे पहुंचती है।

किस-किस श्रेणी में कितने यात्री कर रहे हैं सफर

  • 6 स्लीपर कोच में रोजाना 500 यात्री
  • 4 थर्ड एसी कोच में रोजाना 300 यात्री
  • 1 सेकंड एसी कोच में रोजाना 55 यात्री
  • 2 सेकंड श्रेणी कोच में 250 यात्री

इन श्रेणी में इतने यात्रियों के रोजाना सफर से लगभग 50 बसों की फ्रीक्वेंसी कम हो गई है।

खबरें और भी हैं...