• Hindi News
  • Local
  • Gujarat
  • After Railways, Now Postal Department Is Also Planning To Send Cloth Parcels From Surat To Other States, Started Survey

डाक विभाग की योजना:रेलवे के बाद अब डाक विभाग भी सूरत से कपड़ा पार्सल अन्य राज्यों में भेजने की बना रहा योजना, शुरू किया सर्वे

सूरत4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कपड़ा व्यापारियों और व्यापारिक संगठनों के साथ मीटिंग के बाद होगा फैसला। - Dainik Bhaskar
कपड़ा व्यापारियों और व्यापारिक संगठनों के साथ मीटिंग के बाद होगा फैसला।

लगभग 60 हजार करोड़ के टर्न ओवर वाले सूरत का कपड़ा कारोबार अन्य राज्यों पर टिका है। सूरत से प्रतिदिन सैकड़ों ट्रक पार्सल अन्य राज्यों के लिए जाते हैं। यहां पर कपड़ों के ट्रांसपोर्टेशन का कारोबार काफी बड़ा है। दो साल पहले तक स्थानीय ट्रांसपोर्टर ट्रक द्वारा ही कपड़ों के पार्सल ले जाते थे।

अब डाक विभाग भी सूरत से कपड़ों के पार्सल भेजने की योजना बना रहा है। डिपार्टमेंट ने इसके लिए प्रयास शुरू कर दिया है। वहीं इस पर रेलवे की भी नजर है। दो महीने पहले रेलवे ने कुछ राज्यों के लिए विशेष पार्सल ट्रेन भी रवाना की थी। रेलवे बड़े भी पैमाने पर कपड़ों के पार्सल भेजने की योजना बना रही है।

स्थानीय ट्रांसपोर्टर व्यापारियों की पहली पसंद, दुकान तक पार्सल पहुंचाने की सुविधा देते हैं
कपड़ा व्यापारियों के लिए स्थानीय ट्रांसपोर्टर ही पहली पसंद है। व्यापारियों का कहना है कि स्थानीय ट्रांसपोर्टर दूसरे राज्यों के व्यापारियों को उनकी दुकान तक पार्सल पहुंचाने की व्यवस्था कर देते हैं। इतना ही नहीं यदि माल मंगाने वाले व्यापारी की दुकान में जगह नहीं है तो कुछ दिनों तक अपने गोडाउन में पार्सल रखने की छूट भी देते हैं। यह छूट उन्हें दूसरी जगह नहीं मिलती। सूरत से माल मंगाने वाले व्यापारी खुद ही उन्हें ट्रांसपोर्टर के माध्यम से ही पार्सल भेजने का आग्रह करते है। इसलिए पहले अन्य राज्यों के व्यापारियों को इसके लिए तैयार करना पड़ेगा।

रोजाना 450 ट्रक पार्सल दूसरे राज्यों में भेजे जाते हैं
प्रतिदिन सूरत के कपड़ा मार्केट से कितने पार्सल अन्य राज्यों के लिए जाते हैं, सूरत में बड़े मार्केट कौन से है और किस मार्केट से कितना पार्सल निकलता है। इन सब के बारे में विभाग ने सर्वे शुरू किया है। यदि सर्वे में विभाग को इसमें अच्छा कारोबार नजर आया तो वह इस दिशा में आगे बढ़ेगा। डाक विभाग जल्द ही कपड़ा व्यापारियों और व्यापारिक संगठन के अग्रणियाें के साथ मीटिंग भी करेगा।

डाक विभाग का नेटवर्क भारत के हर कोने में हैं। इस नेटवर्क का उपयोग अब व्यापारिक उद्देश्य से भी किया जाएगा। सूरत के कपड़ा बाजार से त्योहारों और लग्नसरा के दिनों में प्रतिदिन 450 ट्रक कपड़ों के पार्सल अन्य राज्यों के लिए जाते हैं। हालांकि अभी कोरोना और मंदी के कारण 150 ट्रक ही रवाना हो रहे हैं।

खबरें और भी हैं...