बहिष्कार या स्वीकार / करजण की 104 प्रायमरी स्कूलों में चाइनीज टैबलेट वितरित किए गए

प्रतीकात्मक तस्वीर प्रतीकात्मक तस्वीर
X
प्रतीकात्मक तस्वीरप्रतीकात्मक तस्वीर

  • ऐसे में कैसे सीख पाएंगे बच्चे देशभक्ति का पाठ
  • चीन की नीच हरकतों से पूरा देश आहत

दैनिक भास्कर

Jun 30, 2020, 11:21 AM IST

करजण. चीन के साथ बढ़ते तनावपूर्ण स्थिति को देखते हुए जहां केंद्र सरकार ने 59 चाइनीज एप पर प्रतिबंध लगा दिया है, वहीं दूसरी ओर करजण की 104 प्राथमिक शालाओं में बच्चों को चाइना के टैबलेट वितरित किए गए हैं। ऐसे में बच्चे कैसे सीख पाएंगे, देशभक्ति का पाठ।


चीनी सामान का बहिष्कार
20 भारतीय सैनिकों की शहादत के कारण देश भर में चीनी सामानों का बहिष्कार किया जा रहा है। भारतीयों ने देश प्रेम दिखाते हुए चीनी सामान का उपयोग बंद कर दिया है। इसलिए कई व्यापारियों ने भी चीनी सामान बेचना बंद कर दिया है। उधर शिक्षा विभाग द्वारा करजण तहसील की 104 प्राथमिक स्कूलों को मेड इन चाइना टैबलेट दिया गया है। ऐसे में बच्चे देशभक्ति का पाठ कैसे सीख पाएंगे। 


चीन की नीच हरकतें
चीन की नीच हरकतों के कारण हमारे 20 सैनिक मार डाले गए। इससे पूरा देश चीन की नापाक हरकतों के खिलाफ एकजुट हो गया है। अब लोगों में चाइना के बने उत्पाद का बहिष्कार शुरू भी कर दिया है। प्रधानमंत्री बार-बार आत्मनिर्भर होने की बात कर रहे हैं। ऐसे में करजण तहसील की 104 प्राथमिक शालाओं में चाइना निर्मित टैबलेट के वितरण का क्या औचित्य है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना