पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Gujarat
  • Congress City Minister Said Filled The Forms Of Thousands Of People, The Chief Did Not Even Train, Insulted Us, More Than 20 People Will Resign

प्रवासी पाॅलिटिक्स:कांग्रेस के शहर मंत्री बोले- हजारों लोगों के फाॅर्म भरवा लिए, प्रमुख ने ट्रेन ही नहीं दी, हमारा अपमान किया, 20 से ज्यादा लोग देंगे इस्तीफा

सूरत4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शनिवार को कई पदाधिकारियों ने बाबू रायका को पत्र लिखकर विरोध जताया।
  • कांग्रेस के लिए श्रमिकों को ट्रेन से मुफ्त गांव भेजना भारी पड़ रहा है
  • अब पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं के बीच विवाद शुरू हो गया है

(अनूप मिश्रा) कांग्रेस के लिए श्रमिकों को ट्रेन से मुफ्त गांव भेजना भारी पड़ रहा है। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के ऐलान के बाद सूरत से श्रमिकों को मुफ्त में ट्रेन से भेजा तो गया, लेकिन अब पार्टी नेताओं-कार्यकर्ताओं में विवाद शुरू हो गया है। पार्टी के कई पदाधिकारी कार्यकर्ताओं के साथ इस्तीफा देने को तैयार हैं। कार्यकर्ताओं का आरोप है कि शहर प्रमुख ने कई वार्डों की लिस्ट तो बनवा ली, लेकिन श्रमिकों को गांव नहीं भेज रहे।

कई ट्रेनों को भी कैंसिल करवा दिया गया है। वार्ड नंबर 28 के अलावा कई वार्डों के प्रमुख और कार्यकर्ता इस बात से नाराज हैं। वार्ड नंबर 28 में दो अलग-अलग दफ्तर बनाकर 20,000 से ज्यादा श्रमिकों से फॉर्म भरवाए गए थे। कुछ कलेक्टर ऑफिस में जमा करवाकर रद्द करवा दिए गए और कुछ जमा ही नहीं करवाए। जिनका लिस्ट में नाम नहीं था उनकी जगह किसी और को भेज दिया गया।

हमसे फाॅर्म तो भरवा लिए, लेकिन प्रमुख ने नहीं दी ट्रेन 

कांग्रेस के शहर मंत्री सीपी सिंह ने कहा कि हमने हजारों लोगों के फॉर्म भरकर दिए। इसके लिए शहर प्रमुख बाबू रायका से बात भी की, लेकिन उन्होंने एक भी ट्रेन उपलब्ध नहीं कराई। सीपी सिंह ने तत्काल कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों की बैठक बुलाई है। इसमें आगे की रणनीति पर विचार किया जाएगा। सीपी सिंह ने कहा कि हमने जिन लोगों का फॉर्म भराया है उन्हें ट्रेन नहीं मिली तो 20 से ज्यादा पदाधिकारी  कार्यकर्ताओं के साथ इस्तीफा दे देंगे।

वार्ड नंबर 28 से बड़ी संख्या में लोग इस्तीफा देने को तैयार

वार्ड नंबर 28 के कांग्रेस सेक्टर इंचार्ज सन्नी पाठक ने बताया कि लोगों से फॉर्म भरवाए गए थे, लेकिन भेजा नहीं गया। कहां गड़बड़ हुई है पता नहीं चला है, इसलिए अब इस वार्ड बड़ी संख्या में लोग इस्तीफा देने की तैयारी कर रहे हैं। जल्द ही इसकी घोषणा कर दी जाएगी। उन्होंने बताया कि उनकी पत्नी भी मनपा चुनाव में कांग्रेस की उम्मीदवार थी। उन्होंने भी काफी लोगों से फॉर्म भरवाए थे। अब महिलाएं घर आकर पूछ रही हैं कि क्या हुआ। हम कब गांव जाएंगे। इसका जवाब उनके पास नहीं है।

लोग कार्यकर्ताओं के घर पर कर रहे हंगामा

श्रमिक उन कांग्रेसी कार्यकर्ताओं के घर पर हंगामा कर रहे हैं, जिनके जरिए फाॅर्म भरा था। कार्यकर्ताओं का आरोप है कि शहर कांग्रेस प्रमुख बाबू रायका को इस बारे में बताया गया, लेकिन कोई मदद नहीं की। कांग्रेस के जिला प्रमुख जगदीश भाई की तरफ से कई ट्रेन भेजी गई। इनमें शहर से भी लोगों को बुलाकर भेजा जा रहा है।

इस बात को लेकर भी लोग हंगामा कर रहे हैं। कांग्रेस के एक नेता ने बताया कि कांग्रेस के काफी उथल-पुथल मची हुई है। कई वार्ड प्रमुखों को बदलने की भी कोशिश जारी है। कई लोग अब शहर प्रमुख के विरोध में आ गए हैं। मनपा का चुनाव भी आने वाला है, इसलिए सभी राजनीति करने में जुट गए हैं।

बैठक कर पदाधिकारी बोले- हम पार्टी में नहीं रहेंगे

शनिवार की शाम कुछ पदाधिकारियों ने बैठक की। इसमें कहा गया कि पार्टी से उनकी रोजी-रोटी नहीं चलती है। लोगों की सेवा के लिए इस पार्टी से जुड़े हैं। सम्मान नहीं होगा पार्टी के साथ रहना संभव नहीं है। आज तक वार्ड नंबर 28 से जो डेटा दिया था उन लोगों के लिए एक ट्रेन भी नहीं गई। जिन लोगों को दिखाते हैं कि उन्हें ट्रेन से नहीं भेजते।

  • ट्रेन हमने रद्द नहीं करवाई । यह सरकार का काम है। जिस किसी भी पदाधिकारी या कार्यकर्ता को नाराजगी है, वे हमसे बात करें। हम भी जानना चाहते हैं कि किसे क्या समस्या है। जो भी समस्या होगी उसका समाधान किया जाएगा। - किरण रायका, प्रवक्ता, शहर कांग्रेस
  • मुझे ऐसी जानकारी नहीं मिली है। उतनी ट्रेनें ही नहीं मिली, जितनी लोगों को जरूरत है, इसलिए इसमें नाराज होने वाली कोई बात नहीं है। -बाबू रायका, शहर कांग्रेस प्रमुख

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज घर से संबंधित कार्यों को संपन्न करने में व्यस्तता बनी रहेगी। किसी विशेष व्यक्ति का सानिध्य प्राप्त हुआ। जिससे आपकी विचारधारा में महत्वपूर्ण परिवर्तन होगा। भाइयों के साथ चला आ रहा संपत्ति य...

और पढ़ें