दशहरा आज:महंगाई के बावजूद 140 प्रतिशत तक बढ़ी जलेबी-फाफड़ा की मांग

सूरत2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

आज शहरभर में दशहरा का त्योहार धूमधाम से मनाया जाएगा। सूरत में दशहरे पर जलेबी और फाफड़ा खाने की बहुत पुरानी परंपरा है। लगातार बढ़ रहे पेट्रोल और डीजल के भावों का असर अब मिठाइयों पर भी दिखाई देने लगा है। जलेबी और फाफड़ा के भावों में भी भारी उछाल आया है।

दाम बढ़ने के बावजूद खरीदारी में कोई कमी नहीं हुई है। इस साल जलेबी-फाफड़ा की मांग 140 प्रतिशत तक बढ़ गई है। मिठाई बनाने वाले हलवाइयों का कहना है कि पिछले साल की तुलना में इस साल जलेबी-फाफड़ा में इस्तेमाल होने वाली सामग्रियों के दाम बढ़ गए हैं। वहीं, खाद्य तेल की कीमतें भी आसमान पर पहुंच गई हैं। ठाकुरजी मिष्ठान भंडार के एक कारीगर ने बताया कि जलेबी के दामों में कोई विशेष बढ़ोतरी नहीं हुई है। हमारी दुकान पर पिछले 3 साल से शुद्ध देशी घी की जलेबी का भाव 360 रुपए प्रतिकिलो है।

तीन दिनों से हो रही है बुकिंग
प्रतिबंधों में छूट मिलने के बाद लोग धूमधाम से त्योहार मनाने में जुट गए हैं। मिठाई की दुकानों पर पिछले 3-4 दिनों से जलेबी-फाफड़े की बुकिंग हो रही है। पिछले साल दशहरे पर मिठाई की दुकानों में 7 से 8 किलो की बुकिंग हुई थी, जबकि इस साल 3 दिन पहले से ही 25 से 30 किलो तक बुकिंग हो रही थी।

पिछले साल की तुलना में इस साल जलेबी और फाफड़ा में 50 रुपए तक की बढ़ोतरी हुई है। पिछले साल 400 रुपए प्रतिकिलो था जो इस साल बढ़कर 450 रुपए हो गया है। पिछले साल 700 किलो जलेबी-फाफड़ा की बिक्री हुई थी, इस साल 1 टन तक बिक जाएगा। इस साल खरीदी में 140 प्रतिशत तक बढ़ोतरी होगी।
-चंद्रकांत, जलाराम काठियावाड़ी होटल

खबरें और भी हैं...