पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Gujarat
  • For Corona, Gujarat Government Will Spend 600 Crores In 175 Days, By Diwali Will Be 1 Thousand Crores

भास्कर कोरोना ऑडिट:कोरोना के लिए गुजरात सरकार ने 175 दिन में 600 करोड़ रुपए खर्चे, दिवाली तक 1 हजार करोड़ हो जाएंगे

गांधीनगर13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • रिपोर्ट के अनुसार एक मरीज के लिए लगभग 60 हजार रु. खर्च हुए
  • इस हेल्थ बजट के 6%, 210 करोड़ तो सिर्फ टेस्ट में ही खर्चे गए, दवाइयां तथा अन्य खर्च 80 करोड़

(चिंतन आचार्य) कोरोना ने मनुष्य जीवन के साथ-साथ सरकार के बजट को भी अस्तव्यस्त कर दिया है। 24 मार्च से अभी तक यानि की 175 दिनों में गुजरात सरकार ने कोरोना मरीजों के इलाज तथा स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए 600 करोड़ रुपए खर्च किए है। जिसमें से 210 करोड़ रुपए की राशि सिर्फ टेस्ट के लिए खर्ची गई है, जबकि 100 करोड़ रुपए दवाइयां, मास्क, सैनेटाइजर के लिए खर्चे गए है।

इतना खर्चा हाेने के बावजूद भी महामारी अभी भी बेकाबू स्थिति में ही है और राज्य के कुल केस का आंकड़ा 1.12 लाख के करीब पहुंच गया है। राजकोट में शनिवार को चौबीस घंटों में ही 25 मरीजों की मौत हुई है, जबकि सूरत में शनिवार को सर्वाधिक 278 नए केस दर्ज किए गए है। शनिवार को भी राज्य में 1365 नए केस दर्ज किए गए है तथा और 15 लोगों की मौत हो गई र्है। कुल खर्च को सरकारी अस्पतालों में इलाज प्राप्त करने वाले मरीजों के बीच बांटा जाए तो प्रति मरीज के लिए लगभग 60 हजार रुपए खर्च हुए है। एक अनुमान के तहत इसी तरह केस आते रहेंगे तो दिवाली तक सरकारी खर्च बढ़कर 1 हजार करोड़ रुपए तक पहुंच जाएगा। गुजरात सरकार का स्वास्थ्य बजट 11243 करोड़ रुपए है। इसलिए स्वास्थ्य बजट के 5.33 प्रतिशत खचर्ख कोरोना के लिए हो चुका है। जबकि सरकार के अनुसार कोरोना के लिए होने वाला खर्च अकस्मात होने के कारण बजटपत्र के प्रावधान में शामिल नहीं है। मुख्यमंत्री राहत कोष से 250 करोड़ रुपए महामारी के लिए खर्च किए गए है।

स्वास्थ्य बजट 11.24 करोड़, 7 हजार करोड़ रुपए तो वेतन और अन्य का ही खर्च
गुजरात सरकार का 2020-21 का अंदाजपत्रक प्रदर्शित करता है कि सरकार ने कुल 11,243 करोड़ रुपए की वित्तीय प्रावधान स्वास्थ्य के लिए आवंटित किया था, इनमें से सरकार ने स्वास्थ्य एवं चिकित्सा सेवाओं के तहत कुल 7124.42 करोड़ रुपए का प्रावधान किया है और इनमें से बड़ा खर्च महसूल सेवाएं यानि की कर्मचारियों का वेतन, किराया भत्ता, एरियर्स, पेंशन आदी जैसी गैर विकासलक्ष्यी खर्च के लिए होगा और यह राशि 6,2741 करोड़ रुपए होगी।

राज्य में 2 हजार करोड़ रुपए लोगों ने कोरोना के लिए खर्च किया
गुजरात में जिलों की सिविल अस्पताल तथा अहमदाबाद की एसवीपी जैसी सरकारी अस्पताल में कोरोना मरीजाें के लिए सरकार द्वारा खर्च की गई राशि 600 करोड़ रुपए है। निजी अस्पतालों में कोरोना के इलाज के लिए खर्च की मर्यादा तय होने के बावजूद अनेक अस्पतालों की ओर से मनमानी की जा रही है। अनुमान के तहत निजी अस्पतालों का खर्च भी इसमें शामिल किया जाता है तो लोगों के लगभग 2 हजार करोड़ रुपए कोरोना के लिए खर्च हो चुके है।

राज्य सरकार ने केंद्र और मुख्यमंत्री राहत फंड से लिया कोरोना का खर्च
गुजरात सरकार के सूत्र बताते है कि कोविड-19 के लिए जो 600 करोड़ रुपए खर्च किए गए है वह अंदाजपत्र के प्रावधान में बिल्कुल भी शामिल नहीं है। क्योंकि यह अकस्मात के तौर पर आया हुआ खर्च है जिसके लिए केंद्रीय अनुदान और मुख्यमंत्री के राहत निधी से खर्च के लिए राशि ली गई है। सीएम राहत फंड से 250 करोड़ का खर्च हुआ है। बता दें कि स्वास्थ्य बजट में 851 करोड़ रुपए का खर्च सिर्फ नए अस्पताल और वार्ड के निर्माण के लिए है।

कोरोना की दवाइयां नहीं, फिर भी तीन दिन का मेडिकल बिल 40 हजार
राजकोट में नानजीभाई रावल नामक वृद्ध को आयुष अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उनका बेटा राकेश ने पूछताछ की तो 1 दिन के 8500 और दवाइयों का खर्चा अलग से बताया गया था। 50 हजार रुपए एडवांस लिए गए और तीसरे दिन फिर डिपॉजिट मांगने पर पता चला कि सिर्फ मेडिकल का बिल 42 हजार रुपए हो गया है। राकेश के पास कोई रास्ता नहीं था इसलिए उसे डिस्चार्ज करने को कहा गया। वहीं तीन के बदले चार दिन का चार्ज भी 11500 वसूल लिया।

भास्कर की जांच के दौरान शहर की विभिन्न निजी अस्पतालों में बेड खाली होने के बावजूद पूछताछ में बेड खाली नहीं है ऐसा ही बताया जाता है। जिला कलेक्टर कार्यालय के कंट्रोल रूम में पता चल सकता है कि कौनसे अस्पताल में कितने बेड़ खाली है। राजकोट में अस्पताल का चार्ज नियमों के अनुसार जबकि मरीजों को किसी विशेष अथवा सर्जन की जरूरत पड़ती है तो बाहर से बुलाया जा सकता है जिसका भी चार्ज अधिक से अधिक 2000 और दिन में 2 बार ले सकते है। लेकिन कई अस्पताल अपने ही डॉक्टर को एक्सपर्ट बताकर हरेक मरीजों पर हर दिन के 4 हजार रुपए का चार्ज वसूल रहे है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज का दिन पारिवारिक व आर्थिक दोनों दृष्टि से शुभ फलदाई है। व्यक्तिगत कार्यों में सफलता मिलने से मानसिक शांति अनुभव करेंगे। कठिन से कठिन कार्य को आप अपने दृढ़ विश्वास से पूरा करने की क्षमता रखे...

और पढ़ें