पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Gujarat
  • For The First Time In Gujarat, More Than 13 Thousand Corona Patients Are Cured, The Number Of Patients Recovering More Than The New Cases On The Second Consecutive Day Was More.

कम होने लगा कहर:गुजरात में पहली बार 13 हजार से ज्यादा कोरोना मरीज ठीक, लगातार दूसरे दिन नए केसों के मुकाबले ठीक होने वाले मरीजों की संख्या ज्यादा रही

अहमदाबाद/सूरतएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मौतों में भी कमी, नई मौतें: 123, कुल मौतें: 8,035 - Dainik Bhaskar
मौतों में भी कमी, नई मौतें: 123, कुल मौतें: 8,035

गुजरात में एक मई से ही कोरोना महामारी से कुछ राहत मिलती दिख रही है। नए केसों की संख्या और मौतों दोनों में कमी आ रही है। इधर, लगातार दूसरे दिन, नए मामलों से ठीक होने वाले मरीजों की संख्या अधिक रही। रिकॉर्ड 13,021 लोगों ने कोरोना को हराया। 5 मई को 74 दिनों के बाद ठीक होने वाले रोगियों की संख्या नए मामलों की संख्या से अधिक थी। पिछले 24 घंटों में 12 हजार 545 नए मामले सामने आए हैं।

कुल मरीजों की संख्या 6,45,972 पर पहुंच गई है। पिछले एक सप्ताह से हर दिन 10 हजार से अधिक रोगी ठीक हो रहे हैं। ठीक होने वाले कुल मरीजों की संख्या प्रदेश में 4,90,412 हो गई है। वहीं पिछले 24 घंटे में 123 लोगों ने कोरोना की वजह से दम तोड़ दिया। मौतों का आंकड़ा 8 हजार को पार करके 8035 पर पहुंच गया है।
प्रदेश में सक्रिय मरीज 1.47 लाख, 786 वेंटिलेटर पर
राज्य में सक्रिय मामलों की बात करें तो इस समय 1 लाख 47 हजार 525 सक्रिय मामले हैं, जिनमें 786 मरीज वेंटिलेटर पर हैं, जबकि 1 लाख 46 हजार 739 मरीजों हालत स्थिर है। रिकवरी दर 75.92 प्रतिशत हो गई है।

कोरोना संक्रमण की सेकंड भर में पहचान होगी

रिलायंस ने इजरायली विशेषज्ञों को भारत आने देने की अनुमति मांगी, ताकि उपकरणों का प्रशिक्षण दे सकें

रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड ने ब्रेथ ऑफ हेल्थ (बीओएच) नाम की एक इजरायली कंपनी से इसी जनवरी में 110 करोड़ रुपए का सौदा किया है। ऐसे मेडिकल उपकरण खरीदने के लिए जो शुरुआती स्तर पर ही सेकंड भर में ही कोरोना संक्रमण की पहचान कर सकते हैं। लेकिन रिलायंस के सामने समस्या ये है कि इन उपकरणों का प्रशिक्षण देने के लिए इजरायल के विशेषज्ञ भारत नहीं आ पा रहे हैं। लिहाजा कंपनी ने इजरायल सरकार से इन विशेषज्ञों को भारत आने देनेे की अनुमति मांगी है। ताकि वे उसके विशेषज्ञों को उपकरणों का प्रशिक्षण दे सकें।

खबरें और भी हैं...