पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Gujarat
  • Gujarat Board 12th Result Will Come In The Second Week Of July, 50 Marks Of 10th And 25 Marks Of 11th Will Be Counted

CBSE से अलग फार्मूला:गुजरात बोर्ड- 12वीं का रिजल्ट जुलाई के दूसरे हफ्ते में आएगा, 10वीं के 50 और 11वीं के 25 मार्क्स गिने जाएंगे

अहमदाबादएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो। - Dainik Bhaskar
फाइल फोटो।

गुजरात शिक्षा बोर्ड ने भी 12वीं के रिजल्ट का फार्मूला जारी कर दिया है। इसके तहत 10वीं के रिजल्ट के 50 मार्क्स, 11वीं की रिजल्ट के 25 और 12वीं की छमाही एवं अन्य परीक्षाओं के 25 मार्क्स जोड़े जाएंगे। जुलाई के दूसरे सप्ताह में छात्रों को मार्कशीट दी जाएगी।

CBSE में 10वीं के तीन विषयों में से किसी एक में प्राप्त उच्चतम अंकों से 40% वेटेज है, जबकि गुजरात बोर्ड में सभी विषयों को 50% वेटेज मिलेगा। राज्य सरकार ने 12वीं साइंस में 1.40 और आर्ट्स में 5.43 समेत कुल 6.84 लाख छात्रों की परीक्षा रद्द करके मास प्रमोशन दिया है।

ऐसे बनेगी मार्कशीट
शिक्षाविद और GST विशेषज्ञ डॉ. जयेश मोदी ने बताया कि 10वीं बोर्ड परीक्षा में किसी भी छात्र को 70 में से 49 मार्क्स मिले हों तो 12वीं के मार्कशीट में उसे 50 में से 35 मार्क्स मिलेंगे। इसी प्रकार 11वीं की प्रथम कसौटी में 50 में से 38 मार्क्स मिले हों और दूसरी कसौटी में 50 में से 42 मार्क्स मिले हों तो कुल 100 में से 80 मार्क्स होते हैं।

इसका औसतन 40 मार्क्स होते हैं, इसका 50 प्रतिशत करें तो 12वीं के मार्कशीट में 25 से 20 मार्क्स लिखे जाएंगे। 12वीं की प्रथम सामयिक कसौटी में किसी छात्र को 100 में से 80 मार्क्स मिले हों और एक कसौटी में 25 में से 20 मार्क्स आए हों तो 125 में से 100 मार्क्स माना जाएगा। इसका 20 प्रतिशत करने पर 20 मार्क्स होंगे, जो 25 मार्क्स का प्राप्तांक माना जाएगा। इस प्रकार देखें तो 50 में से 35 और 25 में से 20 और 25 में से 20 कुल 100 में से 75 मार्क्स होते हैं।

नीट-जेईई की परीक्षाएं होंगी
12वीं में भले ही छात्रों को मास प्रमोशन दिया गया है, पर 12वीं साइंस के छात्रों की मेडिकल में प्रवेश के लिए नीट, इंजीनियरिंग में प्रवेश के लिए जेईई की परीक्षाएं ली जाएंगी। 10वीं में 12.50 लाख से अधिक और 12वीं में 5.50 से अधिक छात्र हैं। इसमें से 10वीं रेगुलर में 8.50 लाख छात्रों को मास प्रमोशन दिया गया है, जबकि 4 लाख रिपीटर छात्रों के लिए अभी तक कोई निर्णय नहीं लिया गया है। वहीं, 12वीं के रिपीटर छात्रों पर भी अभी निर्णय लेना बाकी है। 10वीं, 12वीं के रिपीटर छात्रों को आगे कैसे प्रवेश दिया जाए, इसे लेकर अभी तक उलझन बनी हुई है।

खबरें और भी हैं...