राज्य में सबसे युवा 'सूरत':यहां 16 विधानसभा क्षेत्रों में 18 से 21 वर्ष के सवा लाख वोटर्स, दूसरे नंबर पर भावनगर

सूरत18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मतदान के लिए सबसे कम युवा मतदाता डांग जिले में हैं। - Dainik Bhaskar
मतदान के लिए सबसे कम युवा मतदाता डांग जिले में हैं।

गुजरात विधानसभा चुनाव के पहले चरण के मतदान की तारीख धीरे-धीरे नजदीक आती जा रही है। एक तरफ जहां सभी राजनीतिक दल चुनाव प्रचार में लगे हैं तो वहीं निर्वाचन आयोग मतदाताओं को मतदान के लिए प्रेरित कर रहा है। खासकर युवा मतदाताओं को उनके मताधिकार का प्रयोग करने के लिए जागरूक किया जा रहा है। इस बार के विधानसभा चुनाव में पूरे राज्य में सूरत में सबसे अधिक युवा मतदाता हैं।

राजकोट तीसरे नंबर पर
ये मतदाता सूरत की 16 विधानसभा सीटों की सूरत बदलने की क्षमता रखते हैं। राज्य निर्वाचन विभाग के आंकड़ों के अनुसार सूरत में 18 से 21 वर्ष की उम्र वाले 1,02,506 युवा मतदाता हैं। 45277 युवा मतदाताओं के साथ भावनगर दूसरे और 42973 मतदाताओं के साथ राजकोट तीसरे नंबर पर है।

इसके अलावा कच्छ में 42294 और सुरेंद्रनगर में 39,437 युवा मतदाता हैं। राज्य निर्वाचन विभाग सूरत के युवाओं के साथ उन क्षेत्रों में भी जागरूक कर रहा है, जिनमें पिछली बार कम मतदान हुआ था। कई सरकारी कार्यालयों में शपथपत्र के बोर्ड लगे हैं, जिन पर मतदाता हस्ताक्षर कर रहे हैं।

आयोग ने मतदाता सूची के नियमों में किए सुधार
चुनाव आयोग के पहले के नियम के अनुसार जिसकी उम्र 1 जनवरी को 18 वर्ष पूरी हो जाती थी वह मतदाता सूची में नाम दर्ज करा सकता है। बाद में चुनाव आयोग ने 17 जून 2022 को रजिस्ट्रेशन ऑफ इलेक्टर्स रूल्स 1960 में बदलाव किया। इस बदलाव के अनुसार अब युवा वर्ष में चार बार फर्स्ट टाइम वोटर की लिस्ट में अपना दर्ज करा सकते हैं।

इन जिलों में सबसे कम युवा मतदाता
पहले चरण के मतदान के लिए सबसे कम युवा मतदाता डांग जिले में हैं। डांग में 8680 युवा मतदाता हैं। इसके अलावा पोरबंदर में 13561, तापी जिले में 13800 युवा मतदाता दर्ज किए गए हैं।