• Hindi News
  • Local
  • Gujarat
  • How far is it appropriate to take this way in the midst of the trouble of leaving the city for home?

अमानवीय / घर के लिए शहर छोड़ने की तकलीफ के बीच इस तरह से ले जाना कहां तक उचित?

भेड़-बकरियों की तरह लोगों को ले जाया गया भेड़-बकरियों की तरह लोगों को ले जाया गया
X
भेड़-बकरियों की तरह लोगों को ले जाया गयाभेड़-बकरियों की तरह लोगों को ले जाया गया

  • इंसानों को भेड़-बकरियों की तरह ले जाया गया
  • लॉकडाउन के बाद 70 हजार लोग गुजरात छोड़ चुके हैं

दैनिक भास्कर

Mar 26, 2020, 11:21 AM IST

अहमदाबाद. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 14 अप्रैल तक लॉकडाउन की घोषणा के बाद निर्माण कार्यों से जुड़े मजदूर और घरेलू काम से संबद्ध हजारों लोग मुश्किल में पड़ गए हैं। कामकाज बंद हो जाने से उन्हें अपने घर लौटना पड़ रहा है। परंतु वाहन बंद होने से उन्हें ट्रक में भेड़-बकरियों की तरह ले जाया जा रहा है।


पैेदल चलते हुए रास्ते में मिला ट्रक
वाहन व्यवहार पूरी तरह से बंद होने के बाद लोग अपने घरों के लिए पैदल ही निकल गए थे। रास्ते में उन्हें किसी ट्रक वाले ने बिठा लिया। उसके बाद उन्होंने जानवरों की तरह यात्रा की थी। निश्चित रूप से इस तरह के अमानवीय दृश्य खतरनाक हैं। अब तक के आंकड़े बताते हैं कि केवल तीन दिनों के अंदर ही गुजरात से 70 हजार लोग पलायन कर चुके हैं।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना