पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Gujarat
  • Joined The 100th K 9 Vajra Cannon Army Formed In Surat, Three Of Them Stationed In Ladakh

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

के-9 वज्र:सूरत में बनी 100वीं के-9 वज्र तोप सेना में शामिल, इनमें से तीन लद्दाख में तैनात

सूरत11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
के-9 वज्र - Dainik Bhaskar
के-9 वज्र
  • सेना में शामिल हुई देश की पहली आत्मनिर्भर तोप, सेना प्रमुख ने दिखाई हरी झंडी

सूरत के हजीरा में तैयार की गई के-9 वज्र तोप अब लद्दाख की सीमा पर गरजेगी। दरअसल, तीन तोपों को लद्दाख में ऊंचाई वाले पहाड़ी इलाकों में तैनात किया गया है। ये तोपें बुधवार को ही लेह पहुंचीं थीं। खबरों के मुताबिक, इन तोपों को एक अधिक ऊंचाई वाले बेस (सैन्य अड्‌डा) पर ले जाया जा रहा है। यहां जांच की जाएगी कि क्या इन तोपों का इस्तेमाल ऊंचे इलाकों में दुश्मन के खिलाफ किया जा सकता है।

सरकार के उच्च पदस्थ सूत्राें ने बताया कि सेना इन तोपों के प्रदर्शन के आधार पर दो-तीन अतिरिक्त रेजीमेंट के लिए इनकी खरीद का ऑर्डर दे सकती है। बोफोर्स घोटाले के बाद भारतीय सेना ने 1986 से कोई नई भारी तोपें अपने शस्त्रागार में शामिल नहीं की हैं। हालांकि अब सेना के-9 वज्र, धनुष और एम-777 अल्ट्रा-लाइट तोपों को अपने बेड़े में शामिल कर रही है।

एलएंडटी के हजीरा प्लांट में तैयार हुई हैं

इससे पहले सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवणे ने सूरत के हजीरा में लार्सन एंड टुब्रो के कारखाने में तैयार की गई 100वीं के-9 वज्र तोप को हरी झंडी दिखाई। जनरल नरवणे खुद इनसे संबंधित सभी गतिविधियों की निगरानी कर रहे हैं। के-9 वज्र तोप दक्षिण काेरिया की ‘के-9 थंडर’ तोप का स्वदेशी संस्करण है। इन स्वचालित ताेपाें की मारक क्षमता 38 किमी तक है। इसे दक्षिण कोरियाई फर्म के साथ साझेदारी में बनाया गया है।

3 मिनट में 15 राउंड फायरिंग करने में सक्षम

के-9 वज्र-टी एक स्वचलित तोप है। 50 टन वजनी इस तोप की मारक क्षमता 38 किमी तक है। यह किसी भी दिशा में वार कर सकती है। यह पहली ऐसी तोप है जिसे भारतीय प्राइवेट सेक्टर ने बनाया है। यह तोप जीरो रेडियस में घूम सकती है यानी इसे घूमने के लिए जगह नहीं चाहिए। यह विस्फोट मोड में 30 सेकंड में तीन राउंड गोलाबारी कर सकती है जबकि इंटेंस मोड में तीन मिनट में 15 राउंड गोलाबारी करने में सक्षम है।

  • 50 टन वजनी इस तोप की मारक क्षमता करीब 38 किलोमीटर तक है
  • के-9 वज्र तोप को दक्षिण कोरियाई फर्म के साथ साझेदारी में बनाया गया है
  • 35 साल बाद भारतीय सेना अपने बेड़े में के-9 वज्र तोप, धनुष और अल्ट्रा-लाइट तोपें शामिल कर रही है
खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थितियां पूर्णतः अनुकूल है। सम्मानजनक स्थितियां बनेंगी। विद्यार्थियों को कैरियर संबंधी किसी समस्या का समाधान मिलने से उत्साह में वृद्धि होगी। आप अपनी किसी कमजोरी पर भी विजय हासिल...

    और पढ़ें