फर्जीवाड़ा:खाली जमीन के फर्जी कागजात बनाकर कई लाेगाें काे बेचा, सौ लोगों से ठगी की आशंका

सूरत9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फर्जीवाड़ा - Dainik Bhaskar
फर्जीवाड़ा
  • मार्केट से कई गुणा सस्ते रेट का लालच देकर फंसाता था ग्राहक

नवसारी के जलालपाेर में जालसाजाें के एक गिराेह ने शहर के पाली गांव में एक ही प्लाट काे दाे से अधिक लाेगाें काे बेच दिया। इसके एवज में उन लाेगाें सें लाखाें रुपए वसूल कर लिए। लाेगाें काे जब अपने साथ हुए धाेखाधड़ी का पता चला ताे उन्हाेंने उधना थाने में आराेपी के खिलाफ मामला दर्ज कराया है।

आराेपी अजित सिंह लाेगाें काे झांसा देने के लिए प्लान के तहत गलत तरीके से किसी की भी जमीन का कागज तैयार कर उन्हें गरीब लाेगाें काे बेच देता था, उनके पैसाें भी नहीं लाैटाता है। शिकायतकर्ता के अनुसार पिछले 5 वर्षो में आरोपी ने सैकड़ाें लाेगाें काे इसी तरह धाेखा दिया हैं। पीड़ित लोग लगातार पुलिस थाने के चक्कर काट रहे है। साल 2019 में सचिन थाने में आरोपी के खिलाफ पहला मामला दर्ज किया गया, तब से अब तक अन्य लोग भी अलग-अलग थाने में मामला दर्ज करवा रहे है।

उधना थाने में तीन लोगों से 7.30 लाख रुपए की धाेखाधड़ी का मामला दर्ज
गोडादरा के नीलमनगर सोसाइटी के निवासी लालचंद गुप्ता द्वारा उधना थाने में दर्ज की गई शिकायत में उन्होंने कहा की अजीत सिंह और योगेश सिंह ने पाली गांव में प्लॉट बेचने के नाम पर ढ़ाई लाख रुपये जमा कराये थे। उसके बाद इस प्लॉट को मालती वानखेड़े नामक की महिला को 2.35 लाख रुपए में बेच दिया उसका फर्जी दस्तावेज बना दिया।

इसके अलावा इस प्लॉट का फर्जी दस्तावेज बनाकर सीताराम राजभर को 2.50 लाख रुपए में बेच दिया। इस प्रकार इस गिरोह ने एक ही प्लाॅट 3 लोगों को बेच कर 7.30 लाख ऐंठ लिए। इसके बाद उन्होंने उधना में वाणिज्यिक परिसर और डिंडोली के कार्यालय बंद कर दिए। उधना पुलिस ने अजीत सिंह और योगेश सिंह के खिलाफ मामला दर्ज कर आगे की जांच शुरू की है शिकायतकर्ता ने बताया उधना थाने में 9 अन्य लोगाें ने शिकायत की है, जिसकी पुलिस जांच कर रही है।

डिंडोली में 2 दिन पहले दर्ज हुई शिकायत
आरोपी ने डिंडोली के 16 लोगों से 25.35 लाख रुपए हड़प लिए। आरोपी के खिलाफ डिंडोली में दर्ज शिकायत के बाद पुलिस ने आरोपी अजीत और उसके भाई योगेश सिंह के खिलाफ मामला दर्ज किया था। आरोपी को डिंडोली पुलिस ने 3 दिन की रिमांड पर लेकर आगे की पूछताछ कर रही है।

फर्जीवाड़ा: जमीन का नकली कागज बनाते थे
डिंडोली थाने के पुलिस इंस्पेक्टर एमएल सालुंके ने बताया कि अभी रिमांड के 2 दिन पूरे हुए है और आरोपी से पूछताछ में उन्होंने कबूल किया है कि जो भी जमीन ग्राहकों को बेचे गए थे। वो उसके नहीं थे किसी भी खाली जमीन के नकली दस्तावेज तैयार कर उन्हें ग्राहकों को दिखाया जाता था।

जिसमे उसका भाई योगेश सिंह भोले-भाले लोगो को फंसा कर जमीन को मार्केट से कई गुना सस्ते दामों में बेच देता था। जब ग्राहक अपनी जगह पर जाते थे तो उन्हें पता चलता था कि इसका असली मालिक कोई और है।

धोखाधड़ी: 100 से ज्यादा मामले होने की आशंका
हाल में उधना, डिंडोली, सचिन, सचिन जीआईडीसी में कुल 4 मामले दर्ज हो चुके है। जबकि 10 शिकायतों पर जांच जारी है। शिकायतकर्ता के मुताबिक 100 लोगो से ज्यादा व्यक्तियों को आरोपी ने ठगा है। इन लोगों से लाखों रुपए धोखाधड़ी से हड़प लिए, जिसे वापस लेने के लिए लोग भटक रहे है। पर अभी तक किसी को भी राहत नहीं मिला।

खबरें और भी हैं...