कोरोनावायरस:मंत्री वसावा का बेटा होम क्वारेंटाइन में रहने के बजाए गांधीनगर पहुंच गया

सूरत/गांधीनगर2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतीकात्मक तस्वीर - Dainik Bhaskar
प्रतीकात्मक तस्वीर
  • प्रद्युम्न विदेश प्रवास कर मुम्बई से सूरत आया था
  • मंत्री आवास में रह रहा था, अन्य मंत्रियों में भय

गांधीनगर/सूरत. गुजरात के आदिमजाति विकास मंत्री गणपत सिंह वसावा का बेटा प्रद्युम्न 23 मार्च को विदेश प्रवास कर मुम्बई से सूरत आया था। सूरत आने के बाद होम क्वारेंटाइन में रहने के बजाए वह गांधीनगर में अपने पिता को आवंटित सरकारी बंगले में रहने लगा।

मंत्री के बंगले में सामान्य गतिविधियां
एक मंत्री के निजी स्टॉफ के एक कर्मचारी ने बताया कि प्रद्युम्न के आने के बाद भी बंगले में सब कुछ सामान्य है। किसी व्यक्ति को यहां क्वारेंटाइन में रखा गया है, ऐसी सूचना देने वाला कोई पोस्टर भी यहां नहीं लगा है। उधर गांधीनगर पालिका के डेप्युटी कमिश्नर पी सी दवे ने बताया कि प्रद्युम्न काफी समय से घर पर ही क्वारेंटाइन में है। पर जब उनसे पूछा गया है इस आशय की सूचना क्यों नहीं लगाई गई है, तो वे जवाब नहीं दे पाए।

क्या कहते हैं मंत्री वसावा
दूसरी तरफ मंत्री गणपत वसावा ने बताया कि प्रद्युम्न विदेश से मुम्बई एयरपोर्ट पर उतरा, वहां से वह सूरत आया। तब उसने स्थानीय स्वास्थ्य विभाग के हेल्पलाइन पर फोन किया था। फिर अपने बारे में पूरी जानकारी दी थी। उसने बता दिया था कि अब वह गांधीनगर में होम क्वारेंटाइन में रहेगा। सूरत में जो सूची जारी की गई हे, उसमें उसका नाम नहीं है। पालिका को इसकी जानकारी दे दी गई है।

टीम जब पहुंची, तब प्रद्युम्न नहीं था
सूरत में पालिका की टीम जब जांच के लिए प्रद्युम्न के घर गई, तब वह वहां नहीं मिला। इसके बाद मंत्री वसावा ने सूचना दी कि प्रद्युम्न को गांधीनगर में होम क्वारेटाइन में रखा गया है। इससे गांधीनगर मेडिकल ऑफिसर ऑफ हेल्थ से बातचीत की गई। अब उनकी मॉनिटरिंग शुरू हो गई है। डॉ. उमरीगर, स्वास्थ्य अधिकारी, पालिका