पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सीएम रूपाणी का निरीक्षण:सीमा पर्यटन के माध्यम से पर्यटन मानचित्र पर होगा नडाबेट, 125 करोड़ रुपए हो रहे खर्च

पालनपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
भारत-पाकिस्तान बॉर्डर पर नडाबेट में 125 करोड़ रुपए खर्च से विकसित होने वाले सीमा पर्यटन प्रोजेक्ट का गुरुवार को सीएम रुपाणी ने निरीक्षण किया। - Dainik Bhaskar
भारत-पाकिस्तान बॉर्डर पर नडाबेट में 125 करोड़ रुपए खर्च से विकसित होने वाले सीमा पर्यटन प्रोजेक्ट का गुरुवार को सीएम रुपाणी ने निरीक्षण किया।

उत्तर गुजरात के बनासकांठा स्थित भारत-पाकिस्तान बॉर्डर पर नडाबेट को संपूर्ण देशभर में पर्यटकों के लिए मानचित्र बनाकर सीमा पर्यटन को तेज गति प्रदान करने की तैयारी शुरू कर दी गई है। राज्य सरकार नडाबेट में 125 करोड़ रुपए के खर्च से इस पर्यटन क्षेत्र को गति प्रदान करने का काम कर रही है।

राज्य के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने गुरुवार को नडाबेट की मुलाकात लेकर राज्य का एकमात्र सीमा पर्यटन केंद्र भारत-पाकिस्तान सरहद पर जीरो पॉइंट पर सीमादर्शन पर्यटन सुविधाओं के कामों काे अंतिम रूप देते हुए निरीक्षण किया। वर्ष 2016 के दिसंबर महीने से नडाबेट में इस सीमा सुरक्षा फोर्स के जीरो पॉईंट को सीमादर्शन के तौर पर खुला करते हुए इसे सीमा पर्यटन की अलग से पहचान दिलाने हेतु राज्य सरकार ने शुरूआत की थी।

अब और 125 करोड़ रुपए के विभिन्न प्रोजेक्ट यहां पर चल रहे है। जो भारत पाकिस्तान बॉर्डर पर 15 अगस्त को खुला कर दिया जाएगा। गुजरात के एकमात्र सीमा पर्यटन केंद्र भारत पाकिस्तान सरहद पर जीरो पॉईंट पर सीमा दर्शन की विभिन्न पर्यटन सुविधाएं उपलब्ध की जाएगी।

फेज 1 का काम पूरा होने की कगार पर

नडाबेट पर फेज-1 के काम लगभग 23 करोड़ रुपए के खर्च से पूरा होने की कगार पर है। फेज-1 में पर्यटकों के आगमन के लिए आगमन प्लाजा, पार्किंग, ऑडिटोरियम रिटेइनिंग वॉल और पीने के पानी की सुविधा के साथ टॉयलेट ब्लॉक का भी काम पूरा होने की कगार पर है। इसके साथ ही फेज-2 के कुल 32 करोड़ रुपए के खर्च से निर्माणाधिन विकास कामों का भी सीएम रुपाणी ने निरीक्षण किया।

जीरो पॉईंट से होगा भारत-पाक सीमा पर्यटन का दर्शन

सीएम ने नडाबेट से बताया कि सीमा पर्यटन के हाेलिस्टिक कंसेप्ट के साथ सीमादर्शन प्रोजेक्ट द्वारा गुजरात विश्व पर्यटन नक्शे पर अग्रसर बनेगा। नडाबेट बॉर्डर पर्यटकों के लिए नया कांसेप्ट और आधुनिक सुविधाओं के साथ देखने को मिले इसके लिए सरकार की ओर से 125 करोड़ रुपए खर्च से काम तेज गति से शुरू किया गया है।

1971 की लड़ाई में यहां से नगर पारकर तक पाकिस्तान का अनेक हिस्सा हमारे बीएसएफ के जवानों ने जीतकर आगे बढ़ाया है। इन सभी चीजों को पर्यटक देख सकें, जान सकें। इस उद्देश्य से नडाबेट पर इस सीमा पर्यटन को विकसित किया जा रहा है।