पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

हैवानियत:4 साल की बच्ची से छेड़छाड़ पर पड़ोसी को 3 साल की सजा

सूरत10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • सेशंस कोर्ट ने एक साल में सुनाया फैसला

एक साल पहले जहांगीरपुरा में चार साल की बच्ची काे निर्वस्त्र कर छेड़छाड़ करने वाले हैवान पड़ोसी को सेशंस कोर्ट ने तीन साल की कैद और एक हजार रुपए जुर्माने की सजा सुनाई है। जुर्माना न भरने पर और छह महीने की कैद का आदेश दिया है। घटना के दौरान मां ने आरोपी को रंगेहाथों पकड़ा था और गुस्से में दो तमाचा भी मारा था। घटना का ट्रायल एक साल में पूरा हुआ। सरकार की ओर से एपीपी किशोर रेवलिया ने पैरवी की।

जानकारी के अनुसार जहांगीरपुरा पुलिस थाने में बच्ची की मां ने शिकायत दर्ज कराई थी। 7 अगस्त 2019 को चार की बच्ची स्कूल से आने के बाद घर के पास ही खेल रही थी। अचानक जोर से मम्मी-मम्मी चिल्लाने लगी। मां घर से बाहर आई तो पड़ोस के मकान से बच्ची की आवाज सुनाई दी। मां सीधे पड़ोसी के कमरे में घुस गई और प्रकाश उर्फ राजू राठौड़ को बच्ची को निर्वस्त करके छेड़छाड़ करते हुए रंगेहाथों पकड़ा था। इसी बीच आसपास के लोग भी वहां जमा हो गए और आरोपी को पकड़कर पीटने लगे। बच्ची ने बताया कि सूखा दादा ने हमारे पेट में जोर से मारा था।

कच्ची दीवार से बच्ची की आवाज सुनाई दी

आरोपी प्रकाश का घर बच्ची के पड़ोस में ही था। दोनों के मकान के बीच में कच्ची दीवार थी। दीवार के ऊपर प्लास्टिक लगी थी। बच्ची ने जब जोर से मम्मी-मम्मी चिल्लाई तो उसकी आवाज मां को सुनाई दी। मां तुरंत ही बच्ची को बचाने के लिए प्रकाश के कमरे में घुस गई।

आरोपी की दो बार मेडिकल जांच हुई

तत्कालीन जांच अधिकारी और जहांगीरपुरा थाने की पीआई हिलपा सिन्धा ने बताया कि आरोपी प्रकाश उर्फ सूखा राठौड की रात 2.25 बजे मेडिकल जांच कराई गई। उस दौरान उसे गिरफ्तार नहीं किया गया। आरोपी को चोट लगी थी, इसलिए उसका इलाज कराया गया। गिरफ्तार करने के बाद दुष्कर्म के एंगल से आरोपी की दोबारा मेडिकल जांच करवाई गई।

प्राइवेट पार्ट में चोट के निशान भी पाए गए थे

जांच अधिकारी ने बताया कि बच्ची की मां के बयान के आधार पर छेड़छाड़ की धारा 354 लगाई गई थी। बच्ची की मेडिकल जांच कराई गई थी। उसके निजी अंगों में चोट के निशान पाए गए थे। इसके बावजूद पुलिस ने दुष्कर्म की धारा नहीं लगाई। डॉक्टर के अनुसार निजी अंगों में किसी प्रकार की चोट आने पर उसे दुष्कर्म ही माना जाता है।

कोर्ट: मासूम बच्चों से छेड़छाड़ के मामले बढ़े हैं

कोर्ट ने कहा कि आरोपी नौजवान है और उसका कोई आपराधिक इतिहास नहीं है। आरोपी के खिलाफ आरोप साबित हुए हैं। क्रिमिनल प्रोसिजर कोड की धारा-360 या प्रोबेशन ऑफ ऑफेन्डर्स एक्ट का लाभ देना अनुचित और अन्यायपूर्ण होगा। परिचितों द्वारा मासूम बच्चियों से छेड़छाड़ के मामले तेजी से बढ़े हैं। समाज में इज्जत बचाने के डर से माता-पिता आरोपी के खिलाफ शिकायत दर्ज नहीं कराते हैं।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज का दिन पारिवारिक व आर्थिक दोनों दृष्टि से शुभ फलदाई है। व्यक्तिगत कार्यों में सफलता मिलने से मानसिक शांति अनुभव करेंगे। कठिन से कठिन कार्य को आप अपने दृढ़ विश्वास से पूरा करने की क्षमता रखे...

और पढ़ें