लापरवाही या चालाकी / 19 मई को कोरोना के मरीज की माैत हुई, लेकिन मनपा ने कोई जिक्र ही नहीं किया

X

  • 6 मई को लिंबायत के पॉजिटिव 68 वर्षीय व्यक्ति का जिक्र किया था, लेकिन 19 को जब मौत हुई तो जानकारी देना ही भूल गए

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 05:00 AM IST

सूरत. मनपा ने 6 मई को कोरोना पॉजिटिव मिले एक मरीज की मौत का जिक्र अपनी ब्रीफिंग में नहीं की। 6 मई को इस मरीज के पाॅजिटिव पाए जाने का जिक्र मनपा ने किया था, लेकिन 19 मई को माैत हुई तो उसकी जानकारी ही नहीं दी। मनपा अधिकारियों का कहना है कि उन्हें इसकी जानकारी नहीं मिली है। फिलहाल पता किया जाएगा।
लिंबायत जोन के परवत पटिया स्थित सालसा नगर के निवासी 68 वर्षीय घनश्याम मोहता 6 मई को कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे। मनपा ने इसका जिक्र अपनी ने प्रेस विज्ञप्ति में जानकारी दी थी। 19 मई को धनश्याम की मौत हो गई। परिवार ने इसकी जानकारी अपने कई संबंधियों को वाट्सअप के जरिये दी थी। 19 को मनपा ने कृष्णा कोविंद (27) की मौत का जिक्र किया था, लेकिन धनश्याम की मौत का कोई जिक्र नहीं किया। मनपा के स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. केतन चाैकसी ने बताया कि उन्हें इसके बारे में कोई जानकारी नहीं है। इस बारे में पता करेंगे।
कोरोना के 32 नए मामले, 28 डिस्चार्ज, 1 मौत
शुक्रवार को कोरोना वायरस के 28 नए मामले सामने आए। अब पाॅजिटिव केसों की संख्या 1308 हो चुकी है। वहीं 28 मरीज डिस्चार्ज भी हुए। इससे अब तक ठीक हो चुके मरीजों की संख्या 880 हो चुकी है। शुक्रवार को कोरोना के एक मरीज की माैत हो गई। इससे मरने वालों का अांकड़ा 58 तक पहुंच गया है। जानकारी के अनुसार सेंट्रल जोन के गोपीपुरा निवासी 50 वर्षीय बैतुल्ला रमजान अली पासा की सिविल अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई। उन्हें 19 मई को गंभीर हालत में एडमिट किया गया था। उनकी हालत नाजुक बनी हुई थी। उनकी 21 मई को मौत हो गई। वह पहले से किडनी की बीमारी और डायबिटीज से पीड़ित थे।
अहमदाबाद ने सूरत मेडि. कॉलेज से बुलाए डॉक्टर
अहमदाबाद में लगातार कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए। अहमदाबाद सिविल अस्पताल ने सूरत और राजकोट के 6 रेजिडेंट डॉक्टर को ड्यूटी पर बुलाया है। सभी डॉक्टर 22 मई से 31 मई तक ड्यूटी पर रहेंगे। डॉक्टरों की ड्यूटी 1200 बेड के कोविड अस्पताल में होगी। इसमें डॉ. अजय परमार, डॉ. पार्थ टांक, डॉ.सचिन गजेरा, डॉ. चंद्रजीत सोलंकी, डॉ. रवि पांचाल और डॉ. रोहन आर्या शामिल हैं।
अब एआरआई के आधार पर की जा रही है टेस्टिंग
मनपा ने शुरुआत में बड़े पैमाने पर कम्यूनिटी सैंपल लेना शुरू किया था। एक दिन में एक हजार तक सैंपल ले रहे थे। इससे रोज 40 से 50 केस आने लगे। पिछले कुछ दिनों से सैंपल लेना कम कर दिया है। अब केवल एआरआई के केस के आधार पर ही रोज 280 से 300 टेस्टिंग हो रही है। इससे अब रोज औसतन 30 केस मिल रहे हैं। लॉकडाउन 4.0 में ढील देने से कोरोना के मामले बढ़ने की आशंका है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना