पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Gujarat
  • Only 2 Students Are Allowed To Stay In One Room Of The Hostel, Problem Increased In Front Of Five Thousand Students Of Samras Hostels

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

छात्रो की असुविधा:हॉस्टल के एक कमरे में केवल 2 छात्रों को रहने की अनुमति, समरस हॉस्टल के पांच हजार छात्रों के सामने बढ़ी समस्या

सूरतएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
छात्रो की असुविधा - Dainik Bhaskar
छात्रो की असुविधा
  • पीजी में रहने के लिए विद्यार्थियों काे खाने के साथ रहने का खर्च भी उठाना पड़ेगा

वीर नर्मद दक्षिण गुजरात यूनिवर्सिटी से संलग्न कॉलेजों के छात्र और यूनिवर्सिटी कैंपस में बने समरस हॉस्टल के अलावा यूनिवर्सिटी के हॉस्टल में रहकर पढ़ाई करने वाले छात्रों के लिए अब जगह कम पड़ेगी। क्योंकि राज्य सरकार की तरफ से आदेश दिया गया है कि हॉस्टल के कमरों में मात्र 2 छात्र ही साथ में रह सकेंगे।

इसके लिए समरस हॉस्टल के अलावा यूनिवर्सिटी के अन्य हॉस्टलों को भी इस नियम का सख्ती से पालन करने के लिए कहा गया है। राज्य सरकार की तरफ से यूनिवर्सिटी के कैंपस में गर्ल्स समरस हॉस्टल बनवाया गया है। इसमें कुल 2500 छात्राओं के रहने की व्यवस्था है। वहीं बॉयज समरस हॉस्टल में भी 2500 छात्र है, जिन्हें मिलाकर 5000 छात्रों के रहने की व्यवस्था है।

लेकिन इस वर्ष बॉयज हॉस्टल में कोविड-19 की वजह से दो बिल्डिंगों को महानगर पालिका ने अपने लिए इस्तेमाल किया था। इस वजह से अब इस हॉस्टल में मात्र लगभग 1500 छात्रों को ही रख पाना संभव है। कई बार हॉस्टल प्रबंधन ने अधिकारियों को पत्र लिखा लेकिन अभी कोई जवाब नहीं दिया गया है।

जबकि समरस हॉस्टल के लिए प्रवेश प्रक्रिया शुरू कर दी गई है और बड़ी संख्या में छात्रों ने आवेदन भी किया है इसलिए अब ज्यादातर छात्रों को सरकार की तरफ से मिलने वाली मुफ्त की सुविधा इस वर्ष नहीं मिल पाएगी।

कचरे के बीच रह रहे छात्र

यूनिवर्सिटी में ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन की परीक्षा के चलते बड़ी संख्या में छात्र वहां पर रहने के लिए आए हैं। समरस हॉस्टल में रहने की इजाजत नहीं होने की वजह से यूनिवर्सिटी ने अपने छात्रालय में उनको रहने की जगह दी है। लेकिन सफाई के लिए जो सफाई कर्मचारी रखे गए हैं, वह नहीं आते।

इसकी वजह से छात्रों को अब कचरे के ढेर के बीच रहना पड़ रहा है। वहां 3 से 4 दिन में 1 बार ही सफाई की जाती है। कोई कर्मचारी नहीं आता इसलिए छात्रों को दरवाजे बंद रखने पड़ते हैं।

छात्रों की आधी संख्या रहेगी

यूनिवर्सिटी के हॉस्टल में एक कमरे में 3 छात्र रहते हैं। कुल मिलाकर 500 छात्रों को रखने की व्यवस्था है। लेकिन सरकार के आदेश के बाद हॉस्टल में इस वर्ष आधे छात्र ही रखे जा सकते हैं। इसके लिए यूनिवर्सिटी अब छात्रों को गाइडलाइन जारी करेगी।

छात्रों का कहना है कि यदि हॉस्टल में उन्हें प्रवेश नहीं मिला तो उन्हें पीजी में रहकर पढ़ाई करनी पड़ेगी। राज्य सरकार उन्हें रहने और खाने की मुफ्त में सुविधा देती है। अब पीजी में रहने के बाद उन्हें खाने के साथ रहने का खर्च भी उठाना पड़ेगा।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आप बहुत ही शांतिपूर्ण तरीके से अपने काम संपन्न करने में सक्षम रहेंगे। सभी का सहयोग रहेगा। सरकारी कार्यों में सफलता मिलेगी। घर के बड़े बुजुर्गों का मार्गदर्शन आपके लिए सुकून दायक रहेगा। न...

    और पढ़ें