पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मौत के आंकड़ो में हेरा-फेरी:71 दिनों में 1.23 लाख डेथ सर्टिफिकेट कोरोना से सिर्फ 4218 की ही मौत दर्ज

अहमदाबाद4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मौत के आंकड़े छिपाने वाली सरकार की उन्हीं के विभागों ने खोली पोल - Dainik Bhaskar
मौत के आंकड़े छिपाने वाली सरकार की उन्हीं के विभागों ने खोली पोल

गुजरात मेें कोरोना से कितने लोगोें की मौत हुई? इस सवाल का जवाब सरकार देना नहीं चाहती। मोर्बिड और को-मोर्बिड के आंकड़ों में उलझे गुजरात के इस सवाल का जवाब स्वयं सरकारी विभागों ने ही दे दिया है। 1 मार्च 2021 से 10 मई 2021 के दौरान सरकारी रिकॉर्ड में भले ही सरकार ने कोरोना से 4218 मरीजों की मौत दर्ज की है लेकिन इस दौरान राज्य के 33 जिले और 8 कॉर्पोरेशन में 1,23,871 डेथ सर्टिफिकेट्स इश्यू हुए है। इश्यू हुए डेथ सर्टिफिकेट्स के आंकड़े हमारे पास आए है जो बहुत चौंकाने वाले है।

मृत्यु के प्रमाणपत्रों के अनुसार इस साल मार्च महीने में राज्य में 26026 मौत, अप्रैल में 57796 मौत दर्ज हुए थे, जबकि मई महीने के शुरूआत में 10 दिनों में आंकड़ा बढ़कर 40051 हुआ था। इन आंकड़ों की तुलना में 2020 के इसी महीनों में देखा जाए तो मार्च 2020 में 23352, अप्रैल 2020 में 21591 तथा मई 2020 में 13125 मौत हुई थी। यानि की बीते साल की तुलना में इस साल के शुरूआत के 71 दिनों में मृत्यु के आंकड़े दो गुना अधिक है।

60 % मौत 45 + लोगों की, जबकि 20% मौत 25 से कम उम्र के लोगों की हुई

राज्य में सर्वाधिक मौत ऐसे लोगों की हुई है जिनकी उम्र 45 वर्ष से अधिक थी। जिसमें इस उम्र में अन्य बीमारियां भी होती है और इम्युनिटी भी कम होती है। इसलिए संक्रमित होने की संभावना भी अधिक होती है। चौंकाने वाली बात यह है कि लगभग 20 फीसदी मौत 25 साल से कम उम्र के लोगों की हुई है।

4 % मौत रिकवर होने के बाद ब्लड क्लोटिंग के कारण हार्ट-अटैक से

कोरोना से रिकवर होने के बाद हार्ट-अटैक के कारण जान गंवाने वाले लोगों की संख्या लगभग 3500 से 4000 है। डॉक्टर्स के अनुसार लंबे समय तक ट्रीटमेंट चलने के कारण ह्रदय में ब्लड क्लोटिंग के कारण कोरोना से रिकवर होने के बाद ह्रदयरोग मरीजों के लिए हानिकारक है।

खबरें और भी हैं...