पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Gujarat
  • Of The 2100 Hospitals In Ahmedabad, Only 91 Have Taken The NOC Of The Fire, The Rest Is God

अस्पतालों के हाल:अहमदाबाद के 2100 अस्पतालों में से सिर्फ 91 ने ही ली है फायर विभाग से एनओसी, बाकी के चल रहे भगवान भरोसे

अहमदाबाद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अहमदाबाद का श्रेय अस्पताल, जहां आईसीयू में आग लगने से 8 कोरोना मरीजों की जान चली गई।
  • कोरोना के बढ़ते मामलों के चलते शहर के कई प्राइवेट अस्पतालों को कोविड-19 वार्ड शुरु करने के आदेश दिए गए हैं
  • प्राइवेट अस्पताल सिर्फ कोरोना के मरीजों से जमकर पैसा वसूल रहे हैं, लेकिन उनकी सेफ्टी की उन्हें कोई चिंता नहीं है

अहमदाबाद के श्रेय अस्पताल में हुई आग की घटना ने राज्य के स्वास्थ्य विभाग की ढिलमुल नीतियों की पोल खोलना शुरु कर दी हैं। कोविड के बढ़ते मामलों के चलते शासकीय अस्पतालों के अलावा प्राइवेट अस्पताल भी मरीजों से भरते जा रहे हैं। प्राइवेट अस्पताल सिर्फ कोरोना के मरीजों से जमकर पैसा वसूल रहे हैं, लेकिन उनकी सेफ्टी की उन्हें कोई चिंता नहीं है। इसी का नतीजा है कि अहमदाबाद के कुल 2100 अस्पतालों में से सिर्फ 91 अस्पतालों ने ही फायर विभाग से नो ऑब्जेक्शन सर्टिफिकेट (एनओसी) ले रखा है। वहीं, बाकी के भगवान भरोसे ही चल रहे हैं।

हाईकोर्ट के आदेश के बावजूद अस्पतालों की कोरोना मरीजों से लूटपाट जारी
अहमदाबाद में कोरोना के बढ़ते मामलों के चलते स्वास्थ्य विभाग द्वारा अब शहर के कई अस्पतालों को कोविड-19 वार्ड शुरु करने के आदेश दिए गए हैं। आदेश से पहले स्वास्थ्य विभाग ने इन प्राइवेट अस्पतालों की जांच और स्वास्थ्य सुविधाएं जांचना भी मुनासिब नहीं समझा। इसके अलावा प्राइवेट अस्पताल कोरोना मरीजों के परिवारों से मनमाने ढंग से लाखो रुपए भी वसूल रहे हैं। मरीजों की लगातार शिकायतों के बाद हाल ही में हाईकोर्ट ने राज्य सरकार को आदेश दिए थे कि वे प्राइवेट अस्पतालों को कोरोना के इलाज की फीस कम करने का आदेश दें। इसके बावजूद कई अस्पताल अपने नए-नए तरीकों से मरीजों को लूट रहे हैं।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- समय की गति आपके पक्ष में रहेगी। सामाजिक दायरा बढ़ेगा। पिछले कुछ समय से चल रही किसी समस्या का समाधान मिलने से राहत मिलेगी। कोई बड़ा निवेश करने के लिए समय उत्तम है। नेगेटिव- परंतु दोपहर बाद परिस...

और पढ़ें