पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

विवाद:अभिभावको ने कहा- 50% फीस माफी चाहिए जो स्कूल तैयार नहीं, उन्हें हमें सौंप दीजिए

सूरत18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • अभिभावक संगठन ने राज्य सरकार और शिक्षा मंत्री को पत्र लिखा

शहर में एक बार फिर से स्कूल खोलने से पहले अभिभावक और स्कूल संगठन आमने-सामने आ गए हैं। वाली मंडल नामक अभिभावक संगठन ने राज्य सरकार और शिक्षा मंत्री को पत्र लिखकर मांग की है कि यदि कोई स्कूल कम फीस में स्कूल चलाने को तैयार नहीं है तो उसे राज्य सरकार ले ले या वह अभिभावकों के हवाले कर दिया जाए।

अभिभावक उस स्कूल की तय फीस से भी कम में संचालन को तैयार हैं। इसके लिए 2 पेज का लेटर राज्य सरकार और शिक्षा मंत्री को लिखा गया है। इसके पहले अहमदाबाद के वाली मंडल नामक संगठन ने भी राज्य सरकार को राज्य की सभी स्कूल अभिभावकों के हवाले करने की मांग की थी। अब यह मांग पूरे राज्य में एक साथ उठ रही है।

अब 50 प्रतिशत की मांग

राज्य सरकार ने वर्ष 2020 में कोरोना की वजह से निजी स्कूलों में 25% फीस माफी का आदेश दिया गया था। लेकिन अभिभावकों के मुताबिक स्कूलों में मनमानी फीस वसूली गई थी। इसलिए वर्ष 2021-22 में सरकार अब इसे बढ़ाकर 50% फीस माफी करे। कई स्कूलों में फीस नहीं भरने पर छात्रों का रिजल्ट नहीं देने की बात कही जा रही है। इसलिए ऐसे स्कूलों के खिलाफ कार्रवाई के लिए कड़े नियम बना की मांग की गई है।

पीड़ित बच्चों को मुफ्त शिक्षा दें: वाली मंडल के प्रमुख उमेश पांचाल ने राज्य सरकार से मांग की है कि इस वर्ष कोरोना की वजह से कई बच्चों ने अपने माता-पिता को खो दिया है। सरकार ऐसे आदेश जारी करे कि जिस स्कूल में ऐसा बच्चा पढ़ता हो, उसे स्कूल की तरफ से मुफ्त में शिक्षा दी जाए।

स्कूल: फीस भरो तभी प्रमोशन होगा शिक्षाधिकारी: कार्रवाई की जाएगी

स्कूलों में पढ़ाई तो बंद है लेकिन फीस की डिमांड जारी है। सेंट बेसिल स्कूल के प्रिंसिपल जॉन की तरफ से कक्षा 10वीं के अभिभावकों को मैसेज भेजा गया है। इसमेंे फीस न भरने पर बच्चों को प्रमोशन नहीं देने की चेतावनी दी गई है। इसके बाद बच्चों में डर का माहौल है। स्कूल की तरफ से अभिभावकों को मैसेज भेजकर कहा गया है कि यदि कोई छात्र ऑनलाइन परीक्षा देना चाहता है तो उसे पहले फीस भरनी होगी।

स्कूल की फीस बाकी है इसलिए मैसेज किया है फीस के कारण प्रमोशन नहीं रोका जाएगा। लेकिन छात्राें को परीक्षा देनी ही होगी।
- जॉन फर्नांडीस, प्रिंसिपल, सेंट बेसिल स्कूल

कोई स्कूल न तो परीक्षा ले सकता है न किसी से जबरन फीस मांग सकता है। किसी ने ऐसा किया है तो सोमवार को उसके खिलाफ जांच होगी।
- दीपक दरजी, इंचार्ज, जिला शिक्षा अधिकारी

खबरें और भी हैं...