पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

यूनिवर्सिटी की मनमानी:कोराेना में बार-बार डेट बढ़ा छात्रों से 10 गुना ज्यादा लेट फीस ले ली

सूरत25 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • कोरोना के समय यूनिवर्सिटी में आरटीपीसीआर टेस्ट के लिए 50 लाख खर्च किए

वीर नर्मद दक्षिण गुजरात यूनिवर्सिटी में एक तरफ छात्रों के हित की बात की जा रही है, वहीं दूसरी तरफ कोराेनाकाल में छात्रों से 10 गुना ज्यादा लेट फीस वसूले हैं। परीक्षा में देरी से आवेदन करने के लिए छात्रों से लेट फीस ली गई। बीएड के छात्रों की परीक्षा के लिए आवेदन जारी किए गए थे। इसी बीच यूनिवर्सिटी ने छात्रों से मनमाने तरीके से पैसे वसूले। लेट फीस के नाम पर यूनिवर्सिटी ने 250 से लेकर 3 हजार रुपए तक छात्रों से भरवाए हैं। इसके बाद उन्हें परीक्षा में शामिल किया गया है।

अप्रैल में पैसे भरवा लिए: 2 बार आवेदन का मौका

बीएड परीक्षा के लिए अप्रैल में आवेदन मांगे गए थे। बचे छात्रों को फिर आवेदन का मौका दिया। बीएड सेमेस्टर-4 के छात्र और फेल छात्रों के लिए 7 दिन की लेट फीस 250 रुपए, 8 दिन से 15 दिन तक के लिए 500 रुपए, 16 दिन से 30 दिन के लिए 1000 व 30 दिन से ज्यादा लेट होने पर 3 हजार लेट फीस ले लिया गया।

खर्च बड़े-बड़े | इसी कोराेनाकाल में यूनिवर्सिटी करोड़ों रुपए खर्च कर रही है। राज्य सरकार के आदेश के बाद राज्य की 5 यूनिवर्सिटी ने कोराेना के लिए आरटीपीसीआर टेस्ट की व्यवस्था की है। इसमें वीएनएसजीयू ने 50 लाख खर्च कर आरटीपीसीआर टेस्ट की व्यवस्था की है। इसके अलावा इसी वर्ष कोराेनाकाल में ही यूनिवर्सिटी ने अलग -अलग विभागों की नई बिल्डिंगें भी बनाने का निर्णय लिया हैै।

खबरें और भी हैं...