पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Gujarat
  • Searched 52 CCTV Cameras Installed In 11 Km In 21 Days, Then Caught 6 Snatchers Based On The Color Of The Seat Of The Scooty

पुलिस को मिली कामयाबी:21 दिनों में 11 किमी में लगे 52 सीसीटीवी कैमरे खंगाले, फिर स्कूटी की सीट के रंग के आधार पर 6 स्नैचर पकड़े

सूरत2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 28 मई को जहांगीरपुरा से तीन स्नैचर मोबाइल छीनकर भागे थे

जहांगीरपुरा में मोबाइल छीने जाने के 21 दिन के बाद पुलिस ने स्कूटी के सीट कवर के रंग के आधार पर आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। जानकारी के अनुसार जहांगीरपुरा में 28 मई को एक मोबाइल स्नेचिंग की घटना हुई थी, जिसमें 3 युवक मोबाइल छीन कर बिना नंबर की स्कूटी से भाग रहे थे।

घटना के बाद पुलिस ने 21 दिनों में करीब 11 किमी के क्षेत्र में लगे 52 सीसीटीवी कैमरों के फुटेज की जांच की। जांच के दौरान सीसीटीवी फुटेज में आरोपी के स्कूटी के लाल रंग की सीट और एसेसरीज के आधार पर छह आरोपियों को गिरफ्तार किया है। पकड़े गए आरोपियों में एक 17 साल का नाबालिग भी शामिल है।

पकड़े गए आरोपियों ने पूछताछ में बताया कि लॉकडाउन में काम नहीं था और नशे की आदत होने के कारण सभी चोरी करने का प्लान बनाया। जहांगीरपुरा पुलिस के हेड कांस्टेबल विजय गिरी और पुलिस कांस्टेबल पीयूष बावकु ने जहांगीरपुरा वरियाव चेक पोस्ट के पास 20 वर्षीय निर्मल उर्फ स्मोकर किंग उर्फ विशाल किशोर परमार, 21 वर्षीय परिमल जयसुख घोघारी, 19 वर्षीय सतीश उर्फ बटको रामजी कलसरिया को गिरफ्तार किया।

इसके अलावा चोरी का मोबाइल आधी कीमत पर खरीदने वाले संदीप प्रदीप मिश्रा और कमलेश जीवराज झड़पीया को भी पकड़ लिया है। उनके पास से पुलिस ने 12 मोबाइल और 3 गाड़ियां जब्त की हैं। आरोपियों के पकड़े जाने के बाद से जहांगीरपुरा पुलिस ने कापोदरा का एक, अडाजन के दो और ओलपाड पुलिस में दर्ज चोरी का एक मामला भी हल कर लिया है।

हीरा कारखाने में काम करते हैं आरोपी

मोबाइल स्नैचिंग करने वाला निर्मल, परिमल और सतीश हीरा कारखाने में नौकरी करते हैं। आरोपी रात की शिफ्ट में नौकरी करते थे और दिन में तीनों मोबाइल स्नैचिंग करते थे। मोबाइल स्नैचिंग करने लिए उन्होंने अपनी गाड़ियों पर नंबर नहीं लगाए हुए थे। ताकि घटना के समय उनका गाड़ी की पहचान न हो सके।

दांडी रोड से गजेरा सर्किल तक के कैमरे की जांच

पुलिस ने आरोपियों को पकड़ने के लिए दांडी रोड से सीसीटीवी फुटेज की जांच करना शुरू किया। वहां से फिर भरीमाता रोड, कॉसवे, प्राणनाथ हॉस्पिटल, डभोली चार रस्ता, इसके बाद अश्विनी कुमार रोड, गजेरा सर्किल तक कुल 52 सीसीटीवी कैमरे की जांच की है। इस मामले में पुलिस के पास कोई वाहन नंबर नहीं था लेकिन जिस स्कूटी पर आरोपी भाग गए थे। उसकी सीट लाल रंग की थी जिस कारण पुलिस को उन्हें पकड़ने में सफलता मिली।

खबरें और भी हैं...