प्रशासन की सख्ती:सुबह जानकारी नहीं होने से दुकानें खुली रहीं, पुलिस ने बंद करवा दी

सूरत6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
नए पाबंदियों के पहले दिन शहर के ज्यादातर रोजमर्रा की दुकाने, शोरूम, शॉपिंग मॉल, शॉपिंग कॉम्प्लेक्स, रिटेल दुकानें, बाजार सम्पूर्ण बंद रहा। रेस्टोरेंट वाले केवल खाना पैक कर ही लोगों को कस्टमर को दे रहे थे। - Dainik Bhaskar
नए पाबंदियों के पहले दिन शहर के ज्यादातर रोजमर्रा की दुकाने, शोरूम, शॉपिंग मॉल, शॉपिंग कॉम्प्लेक्स, रिटेल दुकानें, बाजार सम्पूर्ण बंद रहा। रेस्टोरेंट वाले केवल खाना पैक कर ही लोगों को कस्टमर को दे रहे थे।
  • बैंकिंग व डाटा के लिए कपड़ा मार्केट को सुबह दो घंटे खोलने की अनुमति दी गई

बुधवार से शहर में मिनी लॉकडाउन के पहले दिन इसका व्यापक असर देखने को मिला। बुधवार को पहले दिन जहां कपड़ा मार्केट पूरी तरह से बंद रहा वहीं हीरा मार्केट में काफी हलचल देखने को मिली। हालांकि दोनों ही मार्केट में पहले कुछ समय देने की मांग किया गया था। इसके बाद प्रशासन ने कपड़ा मार्केट और डायमंड बाजार को बंद करा दिए।

हालांकि औचक बंद के निर्णय से टेक्सटाइल और डायमंड सेक्टर में लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ा। व्यापारियों की मांग के चलते एक से दो घंटे टेक्सटाइल मार्केट में दुकान खोलने और डायमंड बाजार में सेल्फ खोलने का समय दिया गया। उसके बाद पुलिस ने सभी दुकानें और ऑफिस बंद करने को कहा।

10% ने ही खोली दुकान

फोस्टा अध्यक्ष मनोज अग्रवाल ने बताया की पुलिस से चर्चा करने पर एक घंटे के लिए दुकानें खोलने की अनुमति दी गई थी। करीब 10 फीसदी व्यापारियों ने चेक बुक या अपने जरूरी डाटा, बिल, फाइल लेकर दुकानें बंद कर दी।

धार्मिक स्थल भी रहें बंद

राज्य सरकार की गाइडलाइन के मुताबिक सारे धार्मिक स्थल बंद रहे। सुबह से ही मंदिर के बाहर बंद की सूचना लगा दी गई थी।

सुबह से अनाउंस करती रही पुलिस

सुबह शहर के विभिन्न क्षेत्रों में घूम कर पुलिस द्वारा व्यापारियों को दुकानें बंद करने का अनाउंस किया जा रहा था। पुलिस काफिला कपड़ा बाजार, महिधरपुरा हीरा बाजार और शहर के विभिन्न क्षेत्रों में गस्त कर दुकानों को बंद कराया। पहले दिन पुलिस की सख्ती देखने को मिली।

हीरा कारोबारी खुद कर रहे लॉकडाउन: वेकरिया

सूरत डायमंड एसोसिएशन के अध्यक्ष नानू वेकरिया ने बताया कि सेल्फ निर्णय के तहत हीरा बाजार खोला गया था। हालांकि एक सप्ताह बंद से डायमंड कारोबार को नुकसान नहीं होगा, क्योंकि कारखाने तो चालू ही हैं। वर्तमान हालात को देखते हुए हीरा कारोबारी स्वैच्छिक लाॅकडाउन कर रहे है।

खबरें और भी हैं...