वडोदरा में बड़ा हादसा टला:फीनिक्स स्कूल की तीसरी मंजिल में शॉर्ट सर्किट से लगी आग, सभी 450 स्टूडेंट्स को सुरक्षित निकाला गया

वडोदरा5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
स्कूल के बाहर अभिभावकों और छात्रों की भीड़ जमा हो गई। - Dainik Bhaskar
स्कूल के बाहर अभिभावकों और छात्रों की भीड़ जमा हो गई।

वडोदरा शहर के फीनिक्स स्कूल की तीसरी मंजिल के ऑफिस में आग लग गई। इससे पूरे स्कूल परिसर में भगदड़ मच गई। हालांकि, स्कूल प्रशासन ने सावधानी रखते हुए तुरंत ही नीचे की दोनों फ्लोर पर मौजूद बच्चों को बाहर निकाल लिया था। इसके बाद मौके पर पहुंची फायर ब्रिगेड व रेस्क्यू टीम ने तीसरी मंजिल पर फंसे स्टूडेंट् को बाहर निकाला। इसके बाद करीब आधे घंटे की मशक्कत से फायर ब्रिगेड ने आग पर काबू पाया। घटना में किसी के हताहत होने की सूचना नहीं है। हालांकि, दौड़भाग में एक छात्र मामुली रूप से घायल हो गया।

बच्चों को स्कूल से बाहर निकालती हुई रेस्क्यू टीम।
बच्चों को स्कूल से बाहर निकालती हुई रेस्क्यू टीम।

फायर टीम के एक्शन से टला बड़ा हादसा
दमकल विभाग के सब-फायर ऑफिसर जरदीपसिंह गढ़वी ने बताया कि हमें स्कूल में आग लगे होने की सूचना मिली तो हमने तुरंत रेस्क्यू टीम को रवाना किया, जिससे तुरंत बच्चों का रेस्क्यू किया जा सके। वहीं, दूसरी टीम फायर की गाड़ियां लेकर सिर्फ 7 मिनट में मौके पर पहुंच गई। इससे बड़ा हादसा टल गया।

स्टूडेंट्स अपने बैग क्लास में छोड़कर भागे।
स्टूडेंट्स अपने बैग क्लास में छोड़कर भागे।

स्कूल में मौजूद थे फायर से बचाव के उपकरण
रेस्क्यू की टीम सीधे तीसरी मंजिल पर पहुंची और वहां फंसे बच्चों को खिड़कियों-बालकनी से रेस्क्यू करना शुरू किया। बचाव कार्य में स्थानीय लोग भी जुट गए थे, जिससे टीम का काम कुछ आसान हो गया। फायर ऑफिसर गढ़वी ने बताया कि आग शॉर्ट सर्किट से लगी थी। रेस्क्यू टीम के लिए एक अच्छी बात यह भी थी कि स्कूल में फायर से बचाव के उपकरण मौजूद थे।

करीब आधे घंटे की मशक्कत से फायर ब्रिगेड ने आग पर काबू पाया।
करीब आधे घंटे की मशक्कत से फायर ब्रिगेड ने आग पर काबू पाया।

सूचना मिलते ही स्कूल पहुंच गई अभिभावकों की भीड़
जैसे ही स्कूल में आग की खबर फैली तो अभिभावकों की भीड़ स्कूल पहुंच गई। जब सभी बच्चों को सुरक्षित देखा तो राहत की सांस ली। आग पर काबू पा लेने के बाद जब फायर की ओर से हरी झंडी मिली तो एक-एक क्लास में बारी-बारी से बच्चों को उनके स्कूल सामान लेने के लिए अंदर भेजा गया।